Surah yaseen kis pare mein hai? सुरह यासीन कीस पारे में है?

Surah yaseen kis pare mein hai? यह काफी लोग जानना चाहते हैं, क्योंकि सूरह यासीन कुरान मजीद की एक ऐसी अजमत वाली सुरह है, जिसे हमारे नबी ने कुरान मजीद का दिल कहां है.

Surah yaseen kitne pare mein hai? जानना हर मुसलमान के लिए जरूरी है; ताकि वह जब भी सूरह यासीन की तिलावत करना चाहे तो कुरान के उस पारे को खोलकर कर सके.

सूरह यासीन कुरान मजीद की बड़ी सुरतों में से एक है जिसकी फजीलत बेशुमार है; सूरह यासीन पढ़ने से बड़ी-बड़ी परेशानियां दूर हो जाती हैं.

Surah yaseen kis pare mein hai?

सुरह यासीन कुरान मजीद के 22वें और 23वें पारे में है.

सुरह यासीन कुरान मजीद के 22वें पारे से शुरु होती है और 23वें पारे में मुकम्मल, मतलब सुरह यासीन दो पारे में मौजूद है.

पांच वक्त की नमाज पढने का तरीका। –

Surah yaseen kitne pare mein hai?

सुरह यासीन कुरान मजीद के दो पारों में मौजूद है, यानी सुरह यासीन दो पारों में बटी हुई है; पहला हिस्सा 22वें पारे से शुरू होता है, और तीसरे पारे में जाकर मुकम्मल.

दोस्तों सूरह यासीन की तिलावत करना अफज़ल इबादतों में शुमार है, इसलिए आप सूरह यासीन की तिलावत खूब किया करें.

उम्मीद है ! आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी अल्लाह हाफिज !!!

Quransays.in

Leave a Comment