वर्डप्रेस डेटाबेस की खराबी: [INSERT, UPDATE command denied to user 'u344271253_quransays'@'127.0.0.1' for table 'wp_options']
INSERT INTO `wp_options` (`option_name`, `option_value`, `autoload`) VALUES ('_transient_doing_cron', '1669314217.3349709510803222656250', 'yes') ON DUPLICATE KEY UPDATE `option_name` = VALUES(`option_name`), `option_value` = VALUES(`option_value`), `autoload` = VALUES(`autoload`)

Surah muhammad in hindi text, meaning in hindi - सूरह मुहम्मद

Surah muhammad in hindi text, meaning in hindi – सूरह मुहम्मद

सुरह मुहम्मद एक बेहद ही प्यारी और अजमत वाली सुरह है, ये कुरान की 47 वीं सुरह है। इसमें कुल 38 आयतें हैं, और ये सुरह मदीना में नाजिल हुई थी। आइए आपको Surah muhammad in hindi 2022 गहराई से बताते हैं…. 

इस पोस्ट में हम ये चीजें जानेंगे। 

  • Surah muhammad ki jankari. 
  • Surah muhammad in hindi 2022. 
  • Surah muhammad in arabic. 
  • Surah muhammad tafsir in hindi 2022. 

चलिए शुरू करते हैं Surah muhammad ki jankari से…. 

Surah muhammad ki jankari

ये सूरह सच्चाई और झूठ के बीच होने वाले जद्दोजहद के बारे में बात करती है। इन दो ग्रूप के बीच अलगाव होगा और एक को नवाज़ा जाएगा और दूसरे को, इनकार करने वालों को सज़ा दिया जाएगा। इस सूरह में रमजान में हुई बद्र की लड़ाई का भी जिक्र है, जिसे हमें ज़रूर जानना चाहिए। 

जंग ए बद्र इस्लामिक इतिहास की सबसे पुरानी और जरूरी जंग थी, हमें इसे जानना चाहिए। चलिए अब सुरह मुहम्मद जानते हैं अरबी में, फिर हिंदी में भी इस सुरह का translation देखेंगे …. 

Surah muhammad in arabic 2022

Surah muhammad in arabic 2022 नीचे दिया हुआ है, हमने नीचे एक एक करके aayat-wise लिखा है। 

بِسْمِ ٱللَّهِ ٱلرَّحْمَـٰنِ ٱلرَّحِيمِ

#1. ٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ وَصَدُّوا۟ عَن سَبِيلِ ٱللَّهِ أَضَلَّ أَعْمَـٰلَهُمْ

#2. وَٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ وَعَمِلُوا۟ ٱلصَّـٰلِحَـٰتِ وَءَامَنُوا۟ بِمَا نُزِّلَ عَلَىٰ مُحَمَّدٍۢ وَهُوَ ٱلْحَقُّ مِن رَّبِّهِمْ ۙ كَفَّرَ عَنْهُمْ سَيِّـَٔاتِهِمْ وَأَصْلَحَ بَالَهُمْ

#3. ذَٰلِكَ بِأَنَّ ٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ ٱتَّبَعُوا۟ ٱلْبَـٰطِلَ وَأَنَّ ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ ٱتَّبَعُوا۟ ٱلْحَقَّ مِن رَّبِّهِمْ ۚ كَذَٰلِكَ يَضْرِبُ ٱللَّهُ لِلنَّاسِ أَمْثَـٰلَهُمْ

#4. فَإِذَا لَقِيتُمُ ٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ فَضَرْبَ ٱلرِّقَابِ حَتَّىٰٓ إِذَآ أَثْخَنتُمُوهُمْ فَشُدُّوا۟ ٱلْوَثَاقَ فَإِمَّا مَنًّۢا بَعْدُ وَإِمَّا فِدَآءً حَتَّىٰ تَضَعَ ٱلْحَرْبُ أَوْزَارَهَا ۚ ذَٰلِكَ وَلَوْ يَشَآءُ ٱللَّهُ لَٱنتَصَرَ مِنْهُمْ وَلَـٰكِن لِّيَبْلُوَا۟ بَعْضَكُم بِبَعْضٍۢ ۗ وَٱلَّذِينَ قُتِلُوا۟ فِى سَبِيلِ ٱللَّهِ فَلَن يُضِلَّ أَعْمَـٰلَهُمْ

#5. سَيَهْدِيهِمْ وَيُصْلِحُ بَالَهُمْ

#6. وَيُدْخِلُهُمُ ٱلْجَنَّةَ عَرَّفَهَا لَهُمْ

#7. يَـٰٓأَيُّهَا ٱلَّذِينَ ءَامَنُوٓا۟ إِن تَنصُرُوا۟ ٱللَّهَ يَنصُرْكُمْ وَيُثَبِّتْ أَقْدَامَكُمْ

#8. وَٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ فَتَعْسًۭا لَّهُمْ وَأَضَلَّ أَعْمَـٰلَهُمْ

#9. ذَٰلِكَ بِأَنَّهُمْ كَرِهُوا۟ مَآ أَنزَلَ ٱللَّهُ فَأَحْبَطَ أَعْمَـٰلَهُمْ

#10. أَفَلَمْ يَسِيرُوا۟ فِى ٱلْأَرْضِ فَيَنظُرُوا۟ كَيْفَ كَانَ عَـٰقِبَةُ ٱلَّذِينَ مِن قَبْلِهِمْ ۚ دَمَّرَ ٱللَّهُ عَلَيْهِمْ ۖ وَلِلْكَـٰفِرِينَ أَمْثَـٰلُهَا

#11. ذَٰلِكَ بِأَنَّ ٱللَّهَ مَوْلَى ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ وَأَنَّ ٱلْكَـٰفِرِينَ لَا مَوْلَىٰ لَهُمْ

#12. إِنَّ ٱللَّهَ يُدْخِلُ ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ وَعَمِلُوا۟ ٱلصَّـٰلِحَـٰتِ جَنَّـٰتٍۢ تَجْرِى مِن تَحْتِهَا ٱلْأَنْهَـٰرُ ۖ وَٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ يَتَمَتَّعُونَ وَيَأْكُلُونَ كَمَا تَأْكُلُ ٱلْأَنْعَـٰمُ وَٱلنَّارُ مَثْوًۭى لَّهُمْ

#13. وَكَأَيِّن مِّن قَرْيَةٍ هِىَ أَشَدُّ قُوَّةًۭ مِّن قَرْيَتِكَ ٱلَّتِىٓ أَخْرَجَتْكَ أَهْلَكْنَـٰهُمْ فَلَا نَاصِرَ لَهُمْ

#14. أَفَمَن كَانَ عَلَىٰ بَيِّنَةٍۢ مِّن رَّبِّهِۦ كَمَن زُيِّنَ لَهُۥ سُوٓءُ عَمَلِهِۦ وَٱتَّبَعُوٓا۟ أَهْوَآءَهُم

#15. مَّثَلُ ٱلْجَنَّةِ ٱلَّتِى وُعِدَ ٱلْمُتَّقُونَ ۖ فِيهَآ أَنْهَـٰرٌۭ مِّن مَّآءٍ غَيْرِ ءَاسِنٍۢ وَأَنْهَـٰرٌۭ مِّن لَّبَنٍۢ لَّمْ يَتَغَيَّرْ طَعْمُهُۥ وَأَنْهَـٰرٌۭ مِّنْ خَمْرٍۢ لَّذَّةٍۢ لِّلشَّـٰرِبِينَ وَأَنْهَـٰرٌۭ مِّنْ عَسَلٍۢ مُّصَفًّۭى ۖ وَلَهُمْ فِيهَا مِن كُلِّ ٱلثَّمَرَٰتِ وَمَغْفِرَةٌۭ مِّن رَّبِّهِمْ ۖ كَمَنْ هُوَ خَـٰلِدٌۭ فِى ٱلنَّارِ وَسُقُوا۟ مَآءً حَمِيمًۭا فَقَطَّعَ أَمْعَآءَهُمْ

#16. وَمِنْهُم مَّن يَسْتَمِعُ إِلَيْكَ حَتَّىٰٓ إِذَا خَرَجُوا۟ مِنْ عِندِكَ قَالُوا۟ لِلَّذِينَ أُوتُوا۟ ٱلْعِلْمَ مَاذَا قَالَ ءَانِفًا ۚ أُو۟لَـٰٓئِكَ ٱلَّذِينَ طَبَعَ ٱللَّهُ عَلَىٰ قُلُوبِهِمْ وَٱتَّبَعُوٓا۟ أَهْوَآءَهُمْ

#17. وَٱلَّذِينَ ٱهْتَدَوْا۟ زَادَهُمْ هُدًۭى وَءَاتَىٰهُمْ تَقْوَىٰهُمْ

#18. فَهَلْ يَنظُرُونَ إِلَّا ٱلسَّاعَةَ أَن تَأْتِيَهُم بَغْتَةًۭ ۖ فَقَدْ جَآءَ أَشْرَاطُهَا ۚ فَأَنَّىٰ لَهُمْ إِذَا جَآءَتْهُمْ ذِكْرَىٰهُمْ

#19. فَٱعْلَمْ أَنَّهُۥ لَآ إِلَـٰهَ إِلَّا ٱللَّهُ وَٱسْتَغْفِرْ لِذَنۢبِكَ وَلِلْمُؤْمِنِينَ وَٱلْمُؤْمِنَـٰتِ ۗ وَٱللَّهُ يَعْلَمُ مُتَقَلَّبَكُمْ وَمَثْوَىٰكُمْ

#20. وَيَقُولُ ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ لَوْلَا نُزِّلَتْ سُورَةٌۭ ۖ فَإِذَآ أُنزِلَتْ سُورَةٌۭ مُّحْكَمَةٌۭ وَذُكِرَ فِيهَا ٱلْقِتَالُ ۙ رَأَيْتَ ٱلَّذِينَ فِى قُلُوبِهِم مَّرَضٌۭ يَنظُرُونَ إِلَيْكَ نَظَرَ ٱلْمَغْشِىِّ عَلَيْهِ مِنَ ٱلْمَوْتِ ۖ فَأَوْلَىٰ لَهُمْ

#21. طَاعَةٌۭ وَقَوْلٌۭ مَّعْرُوفٌۭ ۚ فَإِذَا عَزَمَ ٱلْأَمْرُ فَلَوْ صَدَقُوا۟ ٱللَّهَ لَكَانَ خَيْرًۭا لَّهُمْ

#22. فَهَلْ عَسَيْتُمْ إِن تَوَلَّيْتُمْ أَن تُفْسِدُوا۟ فِى ٱلْأَرْضِ وَتُقَطِّعُوٓا۟ أَرْحَامَكُمْ

#23. أُو۟لَـٰٓئِكَ ٱلَّذِينَ لَعَنَهُمُ ٱللَّهُ فَأَصَمَّهُمْ وَأَعْمَىٰٓ أَبْصَـٰرَهُمْ

#24. أَفَلَا يَتَدَبَّرُونَ ٱلْقُرْءَانَ أَمْ عَلَىٰ قُلُوبٍ أَقْفَالُهَآ

#25. إِنَّ ٱلَّذِينَ ٱرْتَدُّوا۟ عَلَىٰٓ أَدْبَـٰرِهِم مِّنۢ بَعْدِ مَا تَبَيَّنَ لَهُمُ ٱلْهُدَى ۙ ٱلشَّيْطَـٰنُ سَوَّلَ لَهُمْ وَأَمْلَىٰ لَهُمْ

#26. ذَٰلِكَ بِأَنَّهُمْ قَالُوا۟ لِلَّذِينَ كَرِهُوا۟ مَا نَزَّلَ ٱللَّهُ سَنُطِيعُكُمْ فِى بَعْضِ ٱلْأَمْرِ ۖ وَٱللَّهُ يَعْلَمُ إِسْرَارَهُمْ

#27. فَكَيْفَ إِذَا تَوَفَّتْهُمُ ٱلْمَلَـٰٓئِكَةُ يَضْرِبُونَ وُجُوهَهُمْ وَأَدْبَـٰرَهُمْ

#28. ذَٰلِكَ بِأَنَّهُمُ ٱتَّبَعُوا۟ مَآ أَسْخَطَ ٱللَّهَ وَكَرِهُوا۟ رِضْوَٰنَهُۥ فَأَحْبَطَ أَعْمَـٰلَهُمْ

#29. أَمْ حَسِبَ ٱلَّذِينَ فِى قُلُوبِهِم مَّرَضٌ أَن لَّن يُخْرِجَ ٱللَّهُ أَضْغَـٰنَهُمْ

#30. وَلَوْ نَشَآءُ لَأَرَيْنَـٰكَهُمْ فَلَعَرَفْتَهُم بِسِيمَـٰهُمْ ۚ وَلَتَعْرِفَنَّهُمْ فِى لَحْنِ ٱلْقَوْلِ ۚ وَٱللَّهُ يَعْلَمُ أَعْمَـٰلَكُمْ

#31. وَلَنَبْلُوَنَّكُمْ حَتَّىٰ نَعْلَمَ ٱلْمُجَـٰهِدِينَ مِنكُمْ وَٱلصَّـٰبِرِينَ وَنَبْلُوَا۟ أَخْبَارَكُمْ

#32. إِنَّ ٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ وَصَدُّوا۟ عَن سَبِيلِ ٱللَّهِ وَشَآقُّوا۟ ٱلرَّسُولَ مِنۢ بَعْدِ مَا تَبَيَّنَ لَهُمُ ٱلْهُدَىٰ لَن يَضُرُّوا۟ ٱللَّهَ شَيْـًۭٔا وَسَيُحْبِطُ أَعْمَـٰلَهُمْ

#33. يَـٰٓأَيُّهَا ٱلَّذِينَ ءَامَنُوٓا۟ أَطِيعُوا۟ ٱللَّهَ وَأَطِيعُوا۟ ٱلرَّسُولَ وَلَا تُبْطِلُوٓا۟ أَعْمَـٰلَكُمْ

#34. إِنَّ ٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ وَصَدُّوا۟ عَن سَبِيلِ ٱللَّهِ ثُمَّ مَاتُوا۟ وَهُمْ كُفَّارٌۭ فَلَن يَغْفِرَ ٱللَّهُ لَهُمْ

#35. فَلَا تَهِنُوا۟ وَتَدْعُوٓا۟ إِلَى ٱلسَّلْمِ وَأَنتُمُ ٱلْأَعْلَوْنَ وَٱللَّهُ مَعَكُمْ وَلَن يَتِرَكُمْ أَعْمَـٰلَكُمْ

#36. إِنَّمَا ٱلْحَيَوٰةُ ٱلدُّنْيَا لَعِبٌۭ وَلَهْوٌۭ ۚ وَإِن تُؤْمِنُوا۟ وَتَتَّقُوا۟ يُؤْتِكُمْ أُجُورَكُمْ وَلَا يَسْـَٔلْكُمْ أَمْوَٰلَكُمْ

#37. إِن يَسْـَٔلْكُمُوهَا فَيُحْفِكُمْ تَبْخَلُوا۟ وَيُخْرِجْ أَضْغَـٰنَكُمْ

#38. هَـٰٓأَنتُمْ هَـٰٓؤُلَآءِ تُدْعَوْنَ لِتُنفِقُوا۟ فِى سَبِيلِ ٱللَّهِ فَمِنكُم مَّن يَبْخَلُ ۖ وَمَن يَبْخَلْ فَإِنَّمَا يَبْخَلُ عَن نَّفْسِهِۦ ۚ وَٱللَّهُ ٱلْغَنِىُّ وَأَنتُمُ ٱلْفُقَرَآءُ ۚ وَإِن تَتَوَلَّوْا۟ يَسْتَبْدِلْ قَوْمًا غَيْرَكُمْ ثُمَّ لَا يَكُونُوٓا۟ أَمْثَـٰلَكُم

तो दोस्तों ये है Surah muhammad in arabic 2022, आप इसे अरबी में पढ़ सकते हैं और अगर आपको ये हिंदी मे भी पढ़ना है तो आप नीचे दिए गए Surah muhammad in hindi 2022 को पढ़ सकते हैं। 

एक बात याद रखें कि ये Surah muhammad in hindi जो नीचे लिखा हुआ है वो सिर्फ उन लोगों के लिए है जिन्हें अरबी नहीं आती और ये सुरह पढ़ कर याद करना चाहते हैं। या उन्हें अरबी थोड़ी मोड़ी समझ मे आती है उन लोगों के लिए है। चलिए शुरू करते हैं….. 

ये भी पढ़ें:-

Surah muhammad in hindi 2022

ये है Surah muhammad in hindi text (transliteration) 2022 ……. 

#1. अल्लाज़ीना कफरू वा सद्दूआन सबिलिल्लाही अज़ल्ला अ-म-लहुम 

#2. वल्लज़ीना आमनु व-आमिलुस सालिहाती व-आमनु बिमा नुज़्ज़ला अला मुहम्मदियुं व-हुवल हक्कू मिर रब्बिहिम कफ्फारा अनहुम सय्या आतिहिम व-असलाहा बालहुम

#3. ज़ालिका बी अन्नल लज़ीना कफरुत त-ब उल बातिला व-अन्नल्लज़ीना आ-मनुत्तबा उल हक्का मिर्रब्बिहिम कज़ालिका यज़रिबुल्लाहु लिन्नासी अमसा लहुम 

#4. फ़ा-इज़ा लक़ीतुमुल लज़ीना कफरू फ़ज़र बार रकाबि हत्ता ईज़ा असखन-तुमुहुम फसुद्दुल वसाका फइम्मा मन्ना ब’आदु व-इम्मा फिदा-अन हत्ता त-ज़-हरबु अउ-ज़-र-ह ज़ालिका वलव य-सा-उल्लाहु लन-त-स-र मिनहुम व-ला-किल्लयब लुवा बा-ज़कुम बि बाज़ वल्लाज़ीना क़ुतिलू फ़ी सबीलिल्लाहि फ-लन-युजिल्ला अ’मालहुम

#5. स-यहदीहिम व यस्लिहा बालहुम

#6. व यदखिल-ह-मल जन्न-त अर्राफा लहुम

#7. या अय्युहल लज़ीना आमनु इन तन-सूरुल्लाहा यनसुरकुम व-युसब्बत अकदा-मकुम 

#8. वल्लज़ीना कफरू फ़ता’ सल लहुम व अज़ल्ला अ’मालहुम 

#9. ज़ालिका बी अन्नहम करिहू मा अंज़ल अल्लाहु फ़ा अह-ब-त अ’मालहुम

#10. अफलम यसीरू फिल अर्ज़ि फ-यनज़ुरू कैफा काना आकिबतुल लज़ीना मिन कब्लीहिम; दम्मरल लाहू अलैहिम व लिल्काफिरीना अम्सालुहा

#11. ज़ालिका बी अन्नल लाहा मौलल लज़ीना आमनू व अन्नल काफिरीना ला मौला लहुम

#12. इन्नल-लाहा युदखिलुल लज़ीना आमनु व’अमिलुस सालिहाति जन्नतिन तजरी मिन तहतिहल अन्हारु वल्लज़ीना क-फ-रू यतामत्त’ऊना व य’कुलूना क-म ता’कुलुल अन’आमु वन नारु मसवन लहुम 

#13. व क अय्यम मन क़र्यतिन हिया अशद्दु कुव्वतम मिन क़ारयाटिकल लाते अखराजत्का अहलाकनाह फला नासिरा लहुम

#14. अफमन काना ‘आला बय्यनतिम मीर रब्बीही क-मन ज़ुय्यना लहू सू’उ’ अ-म-लिही वत्तबा’उ अहवा’अहुम

#15. मसलुल जन्नतिल लती वु’इदल मुत्तकूना फीहा अनहारुम मिम मा’इन ग़ैरी आसिनिनयुं व अनहारुम मल ल-ब-निल लम य-त-ग़ैयर ता’मुहू व अनहारुम मन खमरिल लज्जतिल लस्सारिबीना व अनहारुम मन ‘समालिम मुसफ्फनऊं व लहुम फीहा मिन कुल्लस स-म-राति व मगफिरतुम मर्रब्बहिम क-मन होवा खालिदुन फिन्नारि व सूकू मा-अन हमीमन फकत्ता’ अ अम’आ’ अहुम 

#16. व मिन्हुम मन यस्तमी’उ इलैका हत्ता ईज़ा ख-र-जू मिन ‘इंदिका कालू लिल लज़ीना ऊतुल’ इल्मा माज़ा काला अ-निफ़ा; उलाइकल्लज़ीना त-ब-अल्लाहु ‘अला कुलुबिहिम वत्तबा’उ अहवा’अहुम

#17. वल्लज़ीनः तदउ ज़ादाहम हुडान्व वा अताहुम तक्वाहम

#18. फहल यंजुरूना इल्लस सा’अ-त अन तातियहुम बघ-ततन फकद जा’आ अशरातुहा; फ-अन्ना लहुम इज़ा जा-अतहुम ज़िकराहुम

#19. फ-लम अन्नाहू ला इलाहा इल्लल लाहु वस्तघफिर लिज़म्बिका व लिल्मु’मिनीना वल्मु’मिनात; वल्लाहु या’लामु मुतक़ल्लबकुम व मस-वाकुम

#20. व यक़ूलुल लज़ीना आमनू लौला नुज़्ज़लत सू-रतुन फ़-इज़ा उनज़िलत सू-रतुम मुह-क-मतुं व ज़ुकिरा फ़ीहल क़ितालु र-अयतल लज़ीना फी क़ुलूबिहिम म-र-ज़ुं यंज़ुरुना इलइका न-ज़-रल मघशीयय अलैहि मिनल मौति फ-अउ-ला-लहुम 

#21. ता-अतुं व-क़ौलुम मा’रूफ़; फ इज़ा अज़मल अमरु फलउ स-द-कुल लाहा लकाना खैरल लहूम

#22. फहल असईतुम इन तवल्लईतुम अन तुफसिदू फिल अर्ज़ि व-तुकत्त’ऊ अरहामकुम

#23. उला-इकल लज़ीना ल-अ-न-हुमुल लाहु फ-असम्महुम व-अमा अबसा-रहुम

#24. अ-फ-ल य-त-दब्बरूनल कुर-आना अम अला कुलुबिन अक्फालुहा

#25. इन्नल लज़ीनर तद्दु अला अदबारीहिम मन बा-दि मा तबैयना ल-हुमुल हुदश शैतानु सव्वाला लहुम व अमला लहुम 

#26. ज़ालिका बी अन्नहुम कालू लिल्लज़ीना क-रिहू मा नज़्ज़ल लहू सनुती’उकुम फ़ी बाज़िल अमरी वल्लाहु या’लमु इसरारहुम

#27. फ़कैफ़ा इज़ा त-वफ़्फ़त हुमुल मला-इकतु यज़रिबूना वुजू-ह-हुम व अदबा रहुम

#28. ज़ालिका बी अन्नहुमुत त-ब-उ मा अस-खतल लाहा व करिहू रिज़्वानहू फ़ अह-ब-त अ’मालहुम

#29. अम हसीबल लज़ीना फ़ी क़ुलूबिहिम म-र-ज़ुन अल लन युखरिजल लाहु अज़घानहुम

#30. व लउ नशा’उ ला-अरैनाकहुम फला ‘अरफ्तहुम बी सीमाहुम; व लता’रिफ़न नहुम फ़ी लहनिल क़ौल; वल्लाहु या’लमु अ’मालकुम

#31. व ल-नबलु वन्नकुम हत्ता ना-ल-मल मुजाहिदीना मिंकुम वस्साबिरीना व-नब-लुवा अख़बारकुम

#32. इन्नल लज़ीना क-फ-रू व सद्दू’अन सबीलिल्लाही व शाक़कुर रसूला मिन बा’दि मा तबैयना ल-हुमुल हुदा लन यज़ुरुल लाहा शैअं व-स-युहबितु अ’मालहुम

#33. या अय्युहल लज़ीना आमनु अती’उल लाहा व-अतीउर रसू-ल वला तुबतिलू अ’मालकुम

#34. इन्नल लज़ीना क-फ-रू व-सद्दू’अन सबीलिल्लाहि सुम्मा मातू वहुम कुफ़्फ़ारुन फलन यघफिरल्लाहु लहुम

#35. फला त-हिनू वतद’ऊ इलस सलमी व-अन-तुमुल अ’लउना वल्लाहु म-अ-कुम व-लन यति-रकुम अ’मालकुम

#36. इन्नमल हयातुद दुन्या ल-इबुन व-लह्व; व-इन तुमिनू व-तत्तकू यु’तिकुम उजू-रकुम वला यस’अलकुम अमवालकुम

#37. इन यस’अलकुमुहा फ-युहफिकुम तब-खलू व-युखरिज अज़घानकुम

#38. हा अंतुम हा’उला’इ तुद-अवना लितुनफिकू फी-सबीलिल्लाही फमिंकुम मन यब-खलु व-मन यबखल फ-इन्नामा यबखलु अन नफ्सिह; वल्लाहु घनिय्यु व-अंतुमुल फु-क़-रा’; व-इन त-त-वल्लव यस-तबदिल क़ौ-मन ग़ैरकुम सुम्मा ला यकूनू अमसालकुम

तो दोस्तों ये थी Surah muhammad in hindi text (hindi transliteration) 2022। अगर आपको अरबी एच ही से नहीं आती तो आप surah muhammad in hindi me भी पढ़ सकते हैं। लेकिन आपको अरबी जल्दी ही सीख लेनी चाहिए, ये जवान हमारे साथ जाएगी। 

नोट:- हो सकता है कि Surah muhammad hindi mein आपको अच्छे से समझ में न आए और आपको दिक्कत आए इसे पढ़ने में तो…… आप इसे अरबी को देखते हुए पढ़ें यानी अरबी और हिंदी एक-एक करके पढ़ें और सही मतलब निकालें, कहीं गलती ना हो जाए पढ़ने में। और अगर हिन्दी लिखने ने गलती हो गई हो तो comment में जरूर बताएँ….. 

ये भी पढ़ें:-

चलिए अब जानते हैं Surah muhammad meaning in hindi translation…… 

Surah muhammad meaning in hindi translation

ये Surah muhammad meaning in hindi translation, हमने आपको हमेशा से बताया है कि जो भी सुरह आप पढ़ें उसका hindi meaning यानी तर्जुमा जरूर पढ़ें। ताकि आपको ये पता चल सके कि आखिर ये अनमोल सुरह खता क्या है, और खास कर ये Surah muhammad जो हमारे प्यारे आका के लिए है…… 

तो चलिए शुरू करते हैं Surah muhammad meaning in hindi translation 2022. एक बात का ध्यान रखें कि जिस तरह हमने इस सुरह को अरबी और हिंदी मे बताया था उसी तरह इसके तर्जुमे को भी बतायेंगे, यानी एक-एक आयत करके। 

ये है Surah muhammad tarjuma in hindi translation…. 

#1. जो लोग इनकार करते हैं और [लोगों] को अल्लाह के रास्ते से रोकते हैं – वह उनके कर्मों को बर्बाद कर देगा।

#2. और जो लोग ईमान लाए और नेक काम किए और उस पर ईमान लाए जो मुहम्मद पर उतारा गया है – और यह उनके पालने वाले की ओर से सच है – वह उनके गलत कामों को दूर कर देगा और उनकी हालत में सुधार करेगा।

#3. ऐसा इसलिए है क्योंकि जो लोग इनकार करते हैं वे झूठ का ताकुब (Pursuance) करते हैं, और जो लोग ईमान लाते हैं वे अपने पालने वाले की ओर से सच का ताकुब करते हैं। इस तरह अल्लाह लोगों को उनकी तुलना पेश करता है।

#4. तो जब तुम उन लोगों से मिलो जो काफ़िरों से [लड़ाई में] मिलते हैं, तब तक [उनकी] गर्दन पर वार करो, जब तक कि तुम उनपर क़त्ल न कर दो, फिर उनके बन्धनों को महफ़ूज़ कर दो, और या तो बाद में एहसान करो या जंग तक [उन्हें] फिरौती दे दो अपना बोझ डालता है। वह [आज्ञा है]। और अगर अल्लाह चाहता तो उनसे [खुद] बदला ले सकता था, लेकिन [उसने मुसल्लह तशादुम का हुक्म दिया] कि तुममें से कुछ को दूसरों के जरिए परखा जाए। और जो लोग अल्लाह की राह में मारे गए हैं, वे उनके अच्छे कामों को कभी बर्बाद नहीं जाने देंगे।

#5. वह उन्हे रास्ता दिखाएंगे और उनकी हालत में तरमीम करेगा

#6. और उन्हें जन्नत में दाखिल कर दो, जो उसने उन्हें बताया है।

#7. ऐ ईमान वालों, अगर तुम अल्लाह का साथ दोगे तो वह तुम्हारा साथ देगा और तुम्हारे पैर मजबूती से लगाएगा।

#8. लेकिन जो लोग इनकार करते हैं – उनके लिए दुख है, और वह उनके कामों को बर्बाद कर देगा।

#9. ऐसा इसलिए है क्योंकि अल्लाह ने जो कुछ भी उतारा, उसे उन्होंने नापसंद किया, इसलिए उसने उनके कामों को बेकार कर दिया।

#10. क्या उन्होंने देश का सफ़र नहीं किया और देखा कि उनके सामने उन लोगों का इखतेताम कैसे हुआ? अल्लाह ने उन पर [सब कुछ] तबाह कर दिया, और काफिरों के लिए कुछ मुवाज़नह है।

#11. ऐसा इसलिए है क्योंकि अल्लाह ईमान लाने वालों का मुहाफिज़ है और काफिरों का कोई मुहाफिज़ नहीं है।

#12. बेशक, अल्लाह उन लोगों को कबूल करेगा जिन्होंने ईमान लाया और अच्छे काम किए, उन बगीचों में जिनके नीचे नदियाँ बहती हैं, लेकिन जो लोग इनकार करते हैं वे खुद की खुशी लेते हैं और चरने वाले जानवरों की तरह खाते हैं, और आग उनके लिए मसकन होगी।

#13. और आपके शहर [मक्का] से कितना मजबूत शहर था जिसने आपको बाहर निकाल दिया? हमने उन्हें तबाह कर दिया; और उनका कोई मुहाफिज़ न था।

#14. तो क्या वह जो अपने रब की ओर से वाजेह सबूत पर है, उसके जैसा है, जिसके लिए उसके काम की बुराई को पर कशिश बनाया गया है और वे अपनी [अपनी] ख्वाहिशात का अताअत करते हैं?

#15. क्या उस जन्नत का तफ़सील है, जिसका वादा नेक लोगों से किया जाता है, जिसमें पानी की नदियाँ हैं, दूध की नदियाँ जिनका जायका कभी नहीं बदलता, शराब की नदियाँ पीने वालों के लिए लज़ीज़ हैं, और खालिस शहद की नदियाँ हैं, जिनमें वे हैं उनके रब की ओर से सब किस्म के फल और माफी होंगी, जैसे [उनकी] जो हमेशा के लिए आग में रहते हैं और उन्हें तीखा पानी पीने के लिए दिया जाता है जो उनकी आंतों को अलग कर देगा?

#16. और उनमें से, [हे मुहम्मद], वे हैं जो आपकी सुनते हैं, जब तक वे आपसे दूर नहीं जाते हैं, तो वे उनसे कहते हैं जिन्हें इल्म दिया गया था, “उसने अभी क्या कहा है?” ये वही लोग हैं जिनके अल्लाह ने उनके दिलों पर मुहर लगा दी है और जिन्होंने उनकी [अपनी] ख्वाहिशात का अताअत किया है।

#17. और जो हिदायत आफता है – वह उन्हें रहनुमाई में बढ़ाता है और उन्हें उनकी रास्तबाजी (धार्मिकता) अताअत करता है।

#18. तो क्या वे इस बात का इंतज़ार करते हैं कि उस पर अचानक से वह घड़ी आ जाए? लेकिन इसके कुछ सिग्नल पहले ही आ चुके हैं। फिर उनका क्या भला, जब वह आ गया, तो उनकी याद से क्या होगा?

#19. तो जान लें, [हे मुहम्मद], कि अल्लाह के अलावा कोई माबूद नहीं है और अपने गुनाहों के लिए और ईमान वाले मर्दों और ईमान वाली औरतों के लिए माफ़ी मांगें। और अल्लाह तुम्हारी हरकत और तुम्हारे आरामगाह के बारे में जानता है।

#20. ईमान लाने वाले कहते हैं, “सूरह क्यों नहीं उतारा गया? लेकिन जब एक सटीक सूरह का पता चलता है और उसमें लड़ाई का जिक्र किया जाता है, तो आप उन लोगों को देखते हैं जिनके दिल में मुनाफकत है, जो आपको मौत से उबरे हुए की नज़र से देख रहे हैं। और उनके लिए ज्यादा मुनासिब [होता]। 

#21. अताअत और अच्छे शब्द। और जब [लड़ाई की] बात तय हो गई होती, अगर वे अल्लाह को सच्चे होते, तो उनके लिए अच्छा होता।

#22. तो क्या आप शायद, अगर आप दूर हो गए, तो दुनिया में भ्रष्टाचार का कारण बनेंगे और अपने [संबंधों] को तोड़ देंगे?

#23. वे [जो ऐसा करते हैं] वे हैं जिन्हें अल्लाह ने लानत दिया है, इसलिए उसने उन्हें बहरा कर दिया और उनकी आखों को अंधा कर दिया।

#24. तो क्या वे क़ुरआन पर सोचा नहीं करते या उनके दिलों पर ताले हैं?

#25. असल में, जो लोग रहनुमाई के बाद [अदम इतिमाद में] लौट आए थे, उनके लिए ज़ाहिर हो गए थे – शैतान ने उन्हें बहकाया और उनके लिए उम्मीद को बढ़ाया।

#26. ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्होंने उन लोगों से कहा जो अल्लाह के जरिए भेजी गई चीज़ को नापसंद करते हैं, “हम मामले में आपकी बात मानेंगे।” और अल्लाह जानता है कि वे क्या छिपाते हैं।

#27. फिर कैसे [होगा] जब फ़रिश्ते उनके चेहरे और पीठ पर मारते हुए उन्हें मौत के घाट उतार देंगे?

#28. ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्होंने अल्लाह को नाराज़ किया और उसकी खुशी को नापसंद किया, इसलिए उसने उनके कामों को बेकार कर दिया।

#29. या जिनके दिलों में बीमारी है, क्या यह सोचते हैं कि अल्लाह उनकी [एहससात] को कभी बे नकाब नहीं करेगा?

#30. और अगर हम चाहें, तो हम उन्हें आपको दिखा सकते हैं, और आप उन्हें उनके निशान से जान सकते हैं; लेकिन तू यकीनी तौर पर उन्हें [उनकी] बोली के लहज़े से पहिचानेगा। और अल्लाह तुम्हारे कामों को जानता है।

#31. और हम यकीनी तौर से आपको परख लेंगे जब तक कि हम उन लोगों को (अल्लाह के लिए) और सब्र करने वाले लोगों को ज़ाहिर नहीं कर देते हैं, और हम आपके मामलों की टेस्टिंग (परीक्षण) करेंगे।

#32. असलियत में, जिन लोगों ने इनकार किया और [लोगों] को अल्लाह के रास्ते से हटा दिया और रहनुमाई के बाद रसूल का मुखालफत किया, उनके लिए ज़ाहिर हो गया था – वे अल्लाह को कभी भी नुकसान नहीं पहुंचाएंगे, और वह उनके कामों को बेकार कर देगा।

#33. ऐ ईमान लाने वालों, अल्लाह की इजाज़त का अताअत करो और रसूल की इजाज़त का अताअत करो और अपने कामों को गलत न करो।

#34. असलियत में, जिन लोगों ने इनकार किया और [लोगों] को अल्लाह के रास्ते से हटा दिया और फिर काफ़िर होने पर मर गए – अल्लाह उन्हें कभी माफ नहीं करेगा।

#35. इसलिए कमजोर न हों और बेहतरीन होने पर अमन पुकारें; और अल्लाह तुम्हारे साथ है और तुम्हें तुम्हारे कामों से कभी मेहरून नहीं करेगा।

#36. [यह] दुनियावी जीवन सिर्फ तफरी और मोड़ है। और अगर तुम ईमान लाए और अल्लाह से डरते रहे तो वह तुम्हें तुम्हारा अजर देगा और तुम्हारी कोई जायदाद नहीं मांगेगा।

#37. अगर वह आपसे उनके लिए पूछे और आपपर दबाव डाले, तो आप रोकेंगे, और वह आपकी हिचकिचाहट को बेनकाब करेगा।

#38. यहाँ आप हैं – जिन्हें अल्लाह के लिए खर्च करने के लिए मद’उ (आमंत्रित) किया गया है – लेकिन आप में से वे हैं जो [लालच से] रोकते हैं। और जो कोई रोके रखता है, वह अपके ही से [फायदा] रोकता है; और अल्लाह को किसी चीज़ की जरूरत नहीं है, जबकि तुम्हें है। और अगर तू फिरेगा, तो वह तुझे दूसरे लोगों से बदल देगा; तब वे तुम्हारे जैसे नहीं होंगे।

तो दोस्तों ये है Surah muhammad meaning in hindi translation 2022…… उम्मीद करते हैं कि आपको इस सुरह का मतलब अच्छे से समझ मे आया होगा और कुछ नया सीखने को मिला होगा अल्लाह, कुरान और इस सुरह के बारे में……

आइए अब आपको इस surah muhammad image pdf in arabic free download भी दे देते हैं ताकि आप इस pdf को download कर कभी भी पढ़ सके….

Surah muhmmad image pdf free download

तो दोस्तों हमने इस surah muhammad image pdf free download लिंक नीचे दिया हुआ है, आप उसपर क्लिक करके आसानी से उसे download कर सकते हैं। आपको बता दें कि इस pdf में Surah muhammad का अरबी image pdf है, यानी सूरह मुहम्मद की अरबी image है इस pdf में….

Link:- Surah muhammad image pdf free download

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया तो आपसे गुजारिश है कि आप इसे अपने दोस्तों, घरवालों और सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें ताकि सभी को Surah muhammad in hindi text 2022 पता चल सके।

अगर इस आर्टिकल मे कोई गलती हो जैसे, स्पेलिंग की गलती, Islamic inaccuracy या तर्जुमे में कोई गलती हो तो हमें contact करें या comment करें, इस आर्टिकल के comment section में।

quransays.in

Leave a Comment