सूरह बय्यिना

surah bayyinah in hindi | सूरह बय्यिना| surah bayyinah hindi translation

दोस्तों सूरह बय्यिना (surah bayyinah) शुरू करने से पहले मैं आपको surah bayyinah यानी lam yakunil के बारे में कुछ छोटी मगर जरूरी बातें बता देना चाहता हूँ। मैं आपको सूरह कदर से जुड़ी कुछ Facts बताता हूँ जो हर एक मुसलमान सख्स को पता होनी चाहिए। फिर हम surah bayyinah in hindi पर चलेंगे। 

Surah bayyinah in hindi
  1. सूरह बय्यिना कुरान पाक का 98 सूरह है।  
  2. Surah bayyinah में कुल 8 आयतें हैं। 
  3. Surah bayyinah का मतलब स्पष्ट सबूत है।
  4.  सूरह बय्यिना कुरान पाक के 3 पारे में मौजूद है।

इतना हमारे लिए काफी है Surah bayyinah (सूरह बय्यिना) को जानने के लिए। तो चलिए शुरू करते हैं। 

Surah bayyinah

بِسْمِ ٱللَّهِ ٱلرَّحْمَٰنِ ٱلرَّحِيمِ

لَمْ يَكُنِ ٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ مِنْ أَهْلِ ٱلْكِتَٰبِ وَٱلْمُشْرِكِينَ مُنفَكِّينَ حَتَّىٰ تَأْتِيَهُمُ ٱلْبَيِّنَةُ

رَسُولٌۭ مِّنَ ٱللَّهِ يَتْلُوا۟ صُحُفًۭا مُّطَهَّرَةًۭ

فِيهَا كُتُبٌۭ قَيِّمَةٌۭ

وَمَا تَفَرَّقَ ٱلَّذِينَ أُوتُوا۟ ٱلْكِتَٰبَ إِلَّا مِنۢ بَعْدِ مَا جَآءَتْهُمُ ٱلْبَيِّنَةُ

وَمَآ أُمِرُوٓا۟ إِلَّا لِيَعْبُدُوا۟ ٱللَّهَ مُخْلِصِينَ لَهُ ٱلدِّينَ حُنَفَآءَ وَيُقِيمُوا۟ ٱلصَّلَوٰةَ وَيُؤْتُوا۟ ٱلزَّكَوٰةَ ۚ وَذَٰلِكَ دِينُ ٱلْقَيِّمَةِ

إِنَّ ٱلَّذِينَ كَفَرُوا۟ مِنْ أَهْلِ ٱلْكِتَٰبِ وَٱلْمُشْرِكِينَ فِى نَارِ جَهَنَّمَ خَٰلِدِينَ فِيهَآ ۚ أُو۟لَٰٓئِكَ هُمْ شَرُّ ٱلْبَرِيَّةِ

إِنَّ ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ وَعَمِلُوا۟ ٱلصَّٰلِحَٰتِ أُو۟لَٰٓئِكَ هُمْ خَيْرُ ٱلْبَرِيَّةِ

جَزَآؤُهُمْ عِندَ رَبِّهِمْ جَنَّٰتُ عَدْنٍۢ تَجْرِى مِن تَحْتِهَا ٱلْأَنْهَٰرُ خَٰلِدِينَ فِيهَآ أَبَدًۭا ۖ رَّضِىَ ٱللَّهُ عَنْهُمْ وَرَضُوا۟ عَنْهُ ۚ ذَٰلِكَ لِمَنْ خَشِىَ رَبَّهُۥ

ये भी पढें :- सूरह काफिरून

तो ये थी हमारी सूरह बय्यिना अरबी में। 

surah bayyinah in hindi

 बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम

1. लम यकुनिल लज़ीना कफरू मिन अहलिल किताबि वल मुशरिकीना मुन्फक कीना हत्ता तअ’ति यहुमुल बय्यिनह

2. रसूलुम मिनल लाहि यत्लू सुहुफ़म मुतह हरह

3. फ़ीहा कुतुबुन क़य्यिमह

4. वमा तफर रक़ल लज़ीना ऊतुल किताबा इल्ला मिम ब’अदि मा जा अत्हुमुल बय्यिनह

5. वमा उमिरू इल्ला लियअ’बुदुल लाहा मुखलिसीना लहुद दीन हुनाफ़ा अ वयुक़ीमुस सलाता व युअ’तुज़ ज़काता व ज़ालिका दीनुल क़य्यिमह

6. इन्नल लज़ीना कफरू मिन अहलिल किताबि वल मुशरिकीना फ़ी नारि जहन्नमा खालिदीना फ़ीहा उलाइका हुम शररुल बरिय्यह

7. इन्नल लज़ीना आमनू अमिलुस सालिहाति उलाइका हुम खैरुल बरिय्यह

8. जज़ाउहुम इन्दा रब्बिहिम जन्नातु अदनिन तजरी मिन तहतिहल अन्हारु खालिदीना फ़ीहा अबदा रज़ियल लाहू अन्हुम वरजू अन्ह ज़ालिका लिमन खशिया रब्बह

ये भी पढें :- आलम नशराह

और ये थी हमारी Surah bayyinah in Arabic। तो चलिए अब हम Surah bayyinah in hindi translation भी देख लेते हैं। लोग इसे lam yakunil in hindi लिख कर भी search करते हैं। 

surah bayyinah in hindi translation

 बिस्मिल्लाहहिर्रहमाननिर्रहीम

1. लम यकुनिल लज़ीना कफरू मिन अहलिल किताबि वल मुशरिकीना मुन्फक कीना हत्ता तअ’ति यहुमुल बय्यिनह

मुशरिकीन और अहले किताब में जो काफ़िर थे और उस वक़्त वो अपने दिन को छोड़ने वाले नहीं थे जब तक उन के पास कोई खुली दलील न आ जाती।

वह अल्लाह के आखिरी नबी हमारे आका हज़रत मुहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहो अलैही व आलीही वसल्लम का इंतजार कर रहे थे, कि वो आयें और वह लोग दिन लायें ।

2. रसूलुम मिनल लाहि यत्लू सुहुफ़म मुतह हरह

काफिर और मुशरीक अल्लाह पाक की तरफ़ से एक ऐसे रसूल के इन्तजार में थे, जो पाक सहीफे पढ़ कर सुनाये।

3. फ़ीहा कुतुबुन क़य्यिमह

वो आसमानी किताब जिसमें दुरुस्त और अच्छे अहकाम लिखे हुए हों।

4. वमा तफर रक़ल लज़ीना ऊतुल किताबा इल्ला मिम ब’अदि मा जा अत्हुमुल बय्यिनह

अहले किताब तो बिना किसी दलील के बात ही नहीं करते थे, और उन्होंने अलग रास्ता उसके बाद ही इख्तियार किया जब उनके पास खुली दलील आ गयी।

5. वमा उमिरू इल्ला लियअ’बुदुल लाहा मुखलिसीना लहुद दीन हुनाफ़ा अ वयुक़ीमुस सलाता व युअ’तुज़ ज़काता व ज़ालिका दीनुल क़य्यिमह

जब कि अहले किताब को सिर्फ यहि हुक्म दिया गया था कि वो एक अल्लाह की बंदगी करें और दिन (इस्लाम) को उसके लिए खालिस करके करें और नमाज़ क़ायम करें और ज़कात अदा करें और सही मिल्लत का यही दीन है।

6. इन्नल लज़ीना कफरू मिन अहलिल किताबि वल मुशरिकीना फ़ी नारि जहन्नमा खालिदीना फ़ीहा उलाइका हुम शररुल बरिय्यह

अहले किताब और मुशरिकीन में से जो ईमान नहीं लाये है, वो हमेशा हमेशा जहन्नुम की आग में जलते रहेंगे यही लोग सब से बदतर मख्लूक़ माने जायेंगे।

7. इन्नल लज़ीना आमनू अमिलुस सालिहाति उलाइका हुम खैरुल बरिय्यह

और हाँ बेशक जो लोग ईमान लाये है और उन्होंने नेक काम नेक अमल किये, वही सब से बेहतर मख्लूक़ हैं।

8. जज़ाउहुम इन्दा रब्बिहिम जन्नातु अदनिन तजरी मिन तहतिहल अन्हारु खालिदीना फ़ीहा अबदा रज़ियल लाहू अन्हुम वरजू अन्ह ज़ालिका लिमन खशिया रब्बह

उनका इनाम अल्लाह के पास है, वो जन्नत में हमेशा बसे रहेंगे, जहां खूबसूरत बगीचे है, जिसके नीचे नदियां बहती है।

ये सब उनको इसलिए मिला क्यूंकि अल्लाह उनसे खुश हैं और वो अल्लाह से खुश रहेंगे, लेकिन ये सब उसी के लिए है, जो अपने रब से डरता है।

ये भी पढें :- सूरह माऊन

Surah bayyinah english transliteration

Bissmillah-hirrahman-nirrahim

1. Lam yakunil lazeena kafaru min ahlil kitaabi wal mushri keena mun fak keena hattaa ta-tiya humul bayyinah

2. Rasoolum minal laahi yatlu suhufam mutahharah

3. Feeha kutubun qaiyimah 

4. Wa maa tafarraqal lazeena ootul kitaaba il-la mim b’adi ma jaa-at humul baiyyinah

5. W ma umiroo il-la liy’abu dul laaha mukhliseena lahud-deena huna faa-a wa yuqeemus salaata wa yu-tuz zakaata; wa zaalika deenul qaiyimah

6. Innal lazeena kafaru min ahlil kitaabi wal mushri keena fee nari jahan nama khaali deena feeha; ulaa-ika hum shar rul ba reeyah

7. Innal lazeena aamanu wa ‘amilus saalihaati ula-ika hum khairul bareey yah

8. Jazaa-uhum inda rabbihim jan naatu ‘adnin tajree min tahtihal an haaru khalideena feeha abada; radiy-yallaahu ‘anhum wa ra du ‘an zaalika liman khashiya rabbah.

Surah bayyinah english translation

1. Mushrikeen and Ahle were the infidels in the book and at that time they were not going to leave their day until they had an open argument.

They were waiting for the last prophet of Allah, our master, Muhammad Mustafa sallallaahu ‘alaihi wa sallam, to come and bring the faith towards Allah.

2. Kafir and Mushreeq were waiting for a Messenger from Allah Pak, who would read and recite the Pak truth.

3. That sky book in which correct and good orders are written.

4. Ahle Kitab did not speak without argument, and he took a different route only after he had an open argument.

5. Whereas the Ahle Kitab was only commanded that they should worship one Allah and make the day (Islam) clear for Him and establish prayers and pay zakat and this is the deen of right Millat.

6. Those who have not believed in the first book and the Mushrikeen, they will always be burning in the fire of Hell forever, these people will be considered as the worst of all.

7. And yes, of course, those who have believed and did righteous deeds, they are the best of all.

8. Their reward is with Allah, they will live forever in Paradise, with beautiful gardens under which rivers flow.

They got all this because Allah is pleased with them and they will be happy with Allah, but all this is for those who fear their Lord.

Surah bayyinah ki fazilat

जैसा कि हम जानते हैं कि कुरान मजीद में मौजूद हर हर्फ़ के माने और फायदे हैं, कुरान मजीद में हर बीमारी का इलाज है, हर मुश्किल की वजह और उससे बाहर निकलने का तरीका मौजूद हैं।

इसी तरह Surah bayyinah की भी फज़ीलतें हैं, आइए अब हम Surah bayyinah ki fazilat देख लेते हैं।

1. अगर किसी शख्स को पीलिया हो गया है, तो रोज Surah al bayyinah को सात मर्तबा पढ़ कर पानी में दम करके पी ले तो उसका पीलिया खत्म हो जाएगा।

2. हाजत कुबूल होगी – अगर कोई काम आपका नहीं हो पा रहा या कोई परेशानी से आप मुकतला है, तो आप 21 मर्तबा surah bayyinah की तीलावत करें और अल्लाह से दुआ मांगे इंशाअल्लाह आपकी हाजत पूरी होगी।

3. जो शख्स रोज़ाना 21 मर्तबा सूरह बय्यिना पढ़ेगा और अल्लाह से अपनी इलाके में या खानदान में इज्जत मिले इसकी दुआ करेगा तो उसकी इज्जत बढ़ जाएगी।

Note – इज्जत बढ़ाने के लिए आपको इज्जत वाले काम करने होंगे जिससे आपकी इज्जत लोगों के अंदर बने।

ये भी पढें :- सूरह जलजला

तो ये थी हमारा आज की सूरह बय्यिना जो की हमने आपको कई तरीकों में बताई। जैसे की Surah bayyinah in hindi, lam yakunil in hindi, Surah bayyinah facts, surah bayyinah in hindi  translation और भी कई चीज़ें जो हमे सूरह बय्यिना के बारे में जननी चाहिए।

दोस्तों अगर आपको हमारी आज की पोस्ट पसंद आयी हो और कुछ सीखने को मिला हो तो इस पोस्ट को सभी मुस्लमान भाईयों, बहनों और अपने परिवारवालों के साथ share करें।

अल्लाह हाफिज !!!!!

Quransays.in

Leave a Comment