Rozi me barkat ki dua

Rozi me barkat ki dua kya hai? अगर आपका भी ये सवाल है तो मैं आपको कुछ दुआएँ बताने वाला हूं जिससे आपके रोजी, नौकरी या कारोबार में अल्लाह-त-आला बेशक बरकत अता फरमाएगा; ऐसी कई सारी आयतें हैं जिन्हें हम दुआ के रूप मे पढ़कर रोजी में बरकत पा सकते हैं. 

दोस्तों मैं आपको एक बात और बता देना चाहता हूं कि दुआ कोई अकेले आपको तरक्की पर नहीं ले जा सकती; उसके लिए आपको कई सारी चीजें करनी पड़ेंगी जिसमें कुछ चीजें ऐसी हैं जिनके बगैर दुआ भी किसी काम की नहीं…  तो आइए पहले उन्हें देख लेते हैं. 

Rozi me barkat ke liye kya kare?

जैसा कि मैंने आपको बताया कि दुआ के अलावा कुछ ऐसी चीजें भी हैं जो आपको रोजी में बरकत का हकदार बना दे; और उन्हीं चीजों को इकट्ठा करके हमने आपके खिदमत मे नीचे लिखा है…. 

  • 5 वक्त की पूरी-पूरी नमाज़ पढ़ें और फर्ज नमाज के बाद बरकत की दुआ मांगे जिसमें आपको वो दुआ भी पढ़नी है जो मैं आपको इस पोस्ट में बताने वाला हूं. 
  • मां-बाप की खिदमत करें, उनकी ख्वाहिशों को पूरा कर उनकी दुआ लें, जिससे आपके झोली में नेकी के साथ अल्लाह की बरकत भी नाजिल होगी. 
  • अल्लाह को हर तरीके से खुश करने की कोशिश करें; जैसे सदका अदा करें, गरीबों, बेबसों, लाचार लोगों की मदद करें, किसी का हक ना मारे और ना ही किसी को नीचा दिखाए ना ही बुरा करें.
  • कुरान की तिलावत करें और और अमल करें.
  • अपने साथ काम करने वालों की इज्जत करें और कभी भी उनका बुरा ना चाहें; वरना अल्लाह आपसे नाराज हो जाएगा. 
  • और भी….. 

तो दोस्तों, ऊपर लिखी सभी चीजों का आपको खास कर ध्यान रखना है अपनी रोजी में बरकत के लिए; तो इतना काफी है अपनी दुआ पूरी कराने के लिए…. चलिए अब जान लेते हैं rozi me barkat ki dua in hindi from quran….

ये भी पढ़ें:-

Rozi me barkat ki dua from quran in hindi

Rozi me barkat ki dua वैसे तो कुरान मे ढेर सारी हैं क्यूंकि पूरी कुरान ही अल्लाह की रहमत और बरकत है; आपको बता दूँ कि कुरान मे ढेर सारी ऐसी आयतें हैं जो रिज़्क और रोजी में बरकत करती हैं, जिन्हें हम पढ़कर बरकत की दुआ करते हैं अपने परवरदिगार से. 

और हम आज आपको उन्हीं चंद दुआओं को बताने वाले हैं, जिन्हें आप पढ़ सकते हैं बरकत के लिए…. 

Note:- इन दुआओं मे से आप जो चाहे वो दुआ यादकर पढ़ सकते हैं या सारी ही दुआएँ यादकर पढ़ सकते हैं; और एक बात का जरूर ध्यान रहे कि इन दुआओं को आप जब चाहे तब पढ़ सकते हैं लेकिन पांचों वक्त की फर्ज नमाज के बाद जरूर पढ़ें (कितनी-कितनी बार पढ़ना है ये आपको हर दुआ के आगे पता चल जाएगा). 

#1. Rozi me barkat ki dua (1)

इस दुआ को आपने 70 मर्तबा पढ़ना है पांचों वक्त की फर्ज नमाज के बाद; और दुआ काफी अफजल है; ये दुआ surah-shura की 19 आयत है. 

Rozi me barkat ki dua in arabic (1):- {اللَّهُ لَطِيفٌ بِعِبَادِهِ يَرْزُقُ مَنْ يَشَاءُ وَهُوَ الْقَوِيُّ الْعَزِيزُ}

Rozi me barkat ki dua in hindi text (1):- { अल्लाहु लतीफ़ुं बी इबादीही, यारज़ुकू मय्याशाऊ, व-होवल क़व्वीयुल अज़ीज़ } 

Rozi me barkat ki dua in english text (1):- { ALLAHU LATIFUN BI IBADIHI, YARZUQU MAYYASHAU, WHUWAL QAWIYYUL AZIZ }

Rozi me barkat ki dua in hindi meaning (1):-

{ अल्लाह-त-आला अपने बंदों पर महरबान है, जिस को चाहता है रोज़ी देता है, वह बहुत मजबूर है और सच पक्का करने वाला है }

#2. Rozi me barkat ki dua/karobar me barkat ki dua (2)

ये जो दुआ मैं आपको बताने वाला हूं उसे आप karobar me barkat ki dua की तरह भी देख सकते हैं; और rozi me barkat ki dua की तरह भी. इस दुआ को भी आपको हर फर्ज नमाज के बाद पढ़ना है. और 141 मर्तबा पढ़ना है (ज्यादा भी हो जाए, तो कोई बात नहीं). ये दुआ surah-luqman की 26 आयत है.

ये भी पढ़ें:-

Rozi me barkat ki dua in arabic (2):- {لِلَّهِ مَا فِي السَّمَاوَاتِ وَالْأَرْضِ إِنَّ اللَّهَ هُوَ الْغَنِيُّ الْحَمِيدُ}

Rozi me barkat ki dua in hindi text (2):– { लिल्लाही मा फिस्मावती वल अरज़ी, इननल लहा हु-अल गनिय्युल हमीद }

Rozi me barkat ki dua in english text (2):– { LILLAHI MA FISSAMAWATI WAL ARZI, INNAL LAHA HUAL GHANIYYUL HAMEED }

Rozi me barkat ki dua in hindi meaning (2):- { अल्लाह ही का है जो कुछ आसमान ओ जमीं में है, बेशक अल्लाह ताला बनियाज है, और तारीफ के लय है }

#3. Rozi me barkat ki dua (3)

ये दुआ काफी अफजल है, और आपको इसे भी हर फर्ज नमाज के बाद 11 मर्तबा पढ़नी है; यह दुआ surah-ankabut की 62 आयत है. 

Rozi me barkat ki dua in arabic (4):- {اللَّهُ يَبْسُطُ الرِّزْقَ لِمَنْ يَشَاءُ مِنْ عِبَادِهِ وَيَقْدِرُ لَهُ إِنَّ اللَّهَ بِكُلِّ شَيْءٍ عَلِيمٌ}

Rozi me barkat ki dua in hindi text (4):- { अल्लाहु यबसुतुर्रिज़्क़ा, लिमन याशाओ मिन इबादीही, वयक़्दिरु लहू, इन्नल्लाहा, बिकुली शैयिन अलीम }

Rozi me barkat ki dua in english text (4):- { ALLAHU YABSUTURRIZQA, LIMAN YASHA-OO MIN IBADIHI, W YAQDIRU LAHU, INNALLAHA, BIKULLI SHAIYIN ALEEM }

Rozi me barkat ki dua in hindi meaning (4):- { अल्लाह ताला अपने बंदों में से जिस के लिए चाहता है, और जिस के लिए चाहता है तांग करता है, बयान अल्लाह ताला हर चीज को जाने वाला है }

तो दोस्तों यह 3 दुआएं जो मैंने आपको ऊपर बताई है वह Rozi me barkat ki duayein from quran in hindi, arabic & english है; जिसकी पूरी जानकरी मैंने आपको उपर दे दी है. तो चलिए अब उन छोटी चीजों को जान लेते हैं जिन्हें पढ़ने से रोजी में बरकत होती है.

ये भी पढ़ें:-

Rozi me barkat ki dua tasbeeh

अगर आप हमारे पुराने visitors हैं इस वेबसाइट के, तो आपको हमने कई बार बताया है कि; जब अल्लाह अपने बंदे को किसी चीज को हासिल करने करने के लिए तस्बी पड़ता है तब अल्लाह बहुत खुश होता है और हर ख्वाहिश पूरी कर देता है….. 

और अब हम आपको ऐसी ही कुछ तस्बी बताने जा रहे हैं जो आपके रोली में और कारोबार में बरकत लाएगी… 

#1. या लतीफु ” को आपको 111 बार कभी भी पढ़ लेना है दिन में एक बार, 

#2. ” दरूद शरीफ “ की तिलावत वैसे तो हमें हर वक्त करते रहना चाहिए, जिससे हरपर अल्लाह की रहमत बनी रहती है; तो इसलिए अगर आप दरूद शरीफ की तिलावत हर वक्त करते रहेंगे तो आपकी परेशानी दूर हो जाएगी और आपके रोजी में बरकत होगी. 

#3. चारों कुल, कुरान, तमाम सुरह, और दरूद शरीफ की तिलावत करें.

तो दोस्तों, अभी तक हमने रोजी में बरकत की दुआएं और तस्बीह देखी; लेकिन अब हम जानने वाले हैं नबियों द्वारा पढ़ी गई rozi me barkat ki dua, जो उन्होंने अपनी उम्मत के रोजी मे बरकत के लिए अल्लाह से मांगी थी… 

Nabi ki rozi ki dua

आपको बता दूँ कि जब अलग ने नबियों को दुनिया के इस्लाम फैलाने के लिए भेजा था तब; अल्लाह ने उनके उम्मतीयों की आजमाइश की अब उन नबियों ने अल्लाह से अपने उम्मत के रिज़क मे बरकत फरमाने के लिए दुआ की. 

और मैं आपको उन्हीं दुआओं के बारे मे बताने वाला हूं, जिन्हें आप पढ़कर बरकत पा सकते हैं…. 

#1. Rizq Ke Liye Hazrat Isa [A.S] ki dua

आपको बता दूँ कि जब हजरत-ईसा-अलैहिस्सलाम की उम्मत के पास खाना नहीं था तब; हजरत-ईसा-अलैहिस्सलाम ने अल्लाह से अपने उम्मतीयों के लिए बरकत की दुआ की. और अल्लाह ने उनकी दुआ कबूल की और आसमान से उनकी उम्मत के लिए खाना उतारा. 

इससे आप इस की ताकत का अंदाजा लगा सकते हैं कि ये कितनी रहमत वाली दुआ है जिसे खुद ईसा-अलैहिस्सलाम ने पढ़ा था; तो आपसे गुजारिश है कि आप भी इस दुआ को पढें और रिज़क हासिल करें. 

Isa (A.S) ki rizq ki dua in arabic:- {رَبَّنَا أَنْزِلْ عَلَيْنَا مَائِدَةً مِنَ السَّمَاءِ تَكُونُ لَنَا عِيدًا لِأَوَّلِنَا وَآخِرِنَا وَآيَةً مِنْكَ وَارْزُقْنَا وَأَنْتَ خَيْرُ الرَّازِقِينَ}

Isa (A.S) ki rizq ki dua in hindi text:- {रब्बाना अंज़िल अलैना म-ईदतन मिनास्मायी तकूनू लना ईदन लि-अऊवलीना व आखिरिना, व अयतन मिंका, वरज़ुक्ना व अंता खयरुर-राज़िकीन”}

Isa (A.S) ki rizq ki dua in english text:- {RABBANA ANZIL ALAINA MAAYIDATAN MINASSAMAAYI TAKOONU LANA EEDAL LIAWWALINA W AAKHIRINA, W AAYTAN MINKA, WARZUQNA W ANTA KHAIRURRAZIQEEN}

Isa (A.S) ki rizq ki dua in hindi meaning:- {ऐ हमारे परवरदिगार हमारे लिए आसमान से एक दस्तरखां उतार दे तकी वह हमारे लिए और हमारे अगले पिचले लोगों के लिए ईद हो जाए और तेरी तरह से एक निशनी हो और हम सबको रोजी दे और देने वाला है}

ये भी पढ़ें:-

#2. Rozi ke liye hazrat musa (A.S) ki dua

ये दुआ हजरत-मूसा-अलैहिस्सलाम जब दूसरी जगह गए थें तब उनके पास खाने-पीने के लिए कुछ नहीं था; वह बहुत परेशान थे उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था, तब उन्होंने अल्लाह से दुआ की… 

और अल्लाह ने उनकी सुन ली और उन्हें नौकरी मिल गई जिससे वह अच्छी जिंदगी जीने लगे…. 

तो दोस्तों, ये naukri ki dua musa alaihissalam ki dua है जिसे उन्होंने खुद पढ़ा था; इसलिए अगर आपको नौकरी नहीं मिल रही या नौकरी मे बरकत पाना चाहते हैं तो आप ये musa alaihissalam ki naukri ki dua from quran पढ़ सकते हैं.

Musa (A.S) ki rizq ki dua in arabic (naukri ke liye musa alaihissalam ki dua) :- {رَبِّ إِنِّي لِمَا أَنْزَلْتَ إِلَيَّ مِنْ خَيْرٍ فَقِيرٌ}

Musa (A.S) ki rizq ki dua in hindi text (naukri ke liye musa alaihissalam ki dua) :- { रब्बी इन्नी लीमा अंजलता इलैया मिन खैरिन फकीरुन }

Musa (A.S) ki rizq ki dua in english text (naukri ke liye musa alaihissalam ki dua):- { RABBI INNI LIMA ANZALTA ILAYYA MIN KHAIRIN FAQIRUN }

Musa (A.S) ki rizq ki dua in hindi meaning (naukri ke liye musa alaihissalam ki dua):- { ऐ मेरे रब जो भी नेमत तू मेरे लिए उतरे मैं उस का मुहताज हूं }

तो दोस्तों ये थी हमारी आज की पोस्ट, उम्मीद करता हूं कि आपको हमारी यह पोस्ट पंसद आई होगी; और कुछ नया सीखने को मिला होगा. अगर हां तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों और घरवालों के साथ शेयर करें. 

और हमारे इस WEBSITE को BOOKMARK कर लें ताकि रोजाना आप सभी को; इस्लाम से जुड़ी ऐसी ही बातें सीखने को मिलती रहे, और आपको भी इस्लाम की अच्छी और सही जानकारी हो…. 

quransays.in

Leave a Comment