Roza kin cheezon se toot jata hai – roza todne wali cheezen

Must read

Roza kin cheezon se toot jata hai इसकी मालूमात होना बहुत बहुत ज्यादा जरूरी हैै, क्योंकि अगर हम रोजा रखते हैं; और हमें इस बात मालूमात नहीं होती है, कि हमारा रोजा कब और कैसे टूट जाएगा? तो हो सकता है, कि हमारा जाने-अनजाने में रोज़ा टूट गया हो.

अनजाने में हुई गलतियों अल्लाह माफ फरमा देता है, लेकिन हमारी भी जिम्मेदारी बनती है; कि हम दीन की मालूमात रखें जिससे हम कोई गलती ना करें और हमारा सवाब कम ना हो.

रमजान का मुबारक महीना में बेहद ही पाक और बा बरकत है, और रमजान का रोजा रखना हम पर फर्क है; इससे जुड़ी एक हदीस है, आइए हम उसे पहले देख लेते हैं, उसके बाद Roza kin cheezon se toot jata hai पर चलेंगे.

Ramzan ke roze ki hadees in hindi

हदीसों में आया है, कि अल्लाह फरमाता है, रमजान के रोजे तुम पर फर्ज हुए हैं; जैसा कि तुमसे पहले आई उम्मतों पर हुए थे ताकी तुम परहेजगार बनो.

इस हदीस से यह साबित होता है, कि रमजान के रोजे कितने ज्यादा अहम हैं, और इनकी अहमियत कितनी ज्यादा है; ऐसे में अगर हमसे जाने अनजाने यार गलती से या फिल्म की कमी होने की वजह से रोजे टूट जाएंगे तो हमें इसका नुकसान होगा.

ये भी पढ़ें –

Roza kin cheezon se toot jata hai

Roza kin cheezon se toot jata की बात करें तो यह हर मुसलमान बच्चे बच्चे को पता होता है; कि अगर सुबह सेहरी के वक्त से लेकर इफ्तार के वक्त तक कुछ भी खाया या पिया जाएगा तो हमारा रोजा टूट जाएगा.

लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ खाने या पीने से ही रोजा नहीं सकता बल्कि ऐसी भी कई चीजें हैं; जिनको करने से हमारा रोजा टूट जाता है, और हम उन चीजों को नहीं जानते और हम गलती कर बैठते हैं

Roza todne wali cheezen हदीसों में बयान की गई हैं; जिससे हमें यह मालूमात होती है, कि किन चीजों को करने से हमारा रोजा टूट जाता है.

Roza kin cheezon se toot jata hai इसकी मालूमात हो जाने से हमारा रोजा और भी ज्यादा बेहतर और इबादत के साथ गुजरता है; जिसका हमें सवाब आखिरत मे तो मिलता ही है, साथ ही साथ हमारी दुनिया भी संवर जाती है.

Roza todne wali cheezen

  • खाने-पीने से।
  • नशा करने से।
  • बुरे काम करने से।
  • जुल्म करने से।
  • मां बाप की नाफरमानी करने से।
  • उलटी होने से।
  • किसी का हक मारना।
  • गाली देना।
  • ज़कात अदा ना करना।
  • कान व नाक में दवा का डालना।
  • जानबूझकर दांतों में फसा खाना निगल जाना।
  • मुश्त-ज़नी (masturbation) करने से।

खाने-पीने से रोज़ा टूट जाता है।

सुबह सेहरी कर के रोजे की नियत करने के बाद से लेकर इफ्तार के वक्त तक अगर कुछ भी खाया जाए कुछ भी से मुराद है; कुछ भी एक दाना ही क्यों न हो अगर खाया जाएगा तो रोजा टूट जाएगा.

लेकिन अगर कोई जालिम जानबूझकर जबरदस्ती आपके मुंह में कुछ खाने की चीजें डालें जिससे कि आपका रोज़ा टूट जाए; तो ऐसे हालत में आप रोज़ा नहीं टूटेगा.

जुमे की नमाज अदा करने का सही तरीका।

नशा करने से रोज़ा टूट जाता है।

किसी भी तरह का नशा करना इस्लाम में मना है, खास करके शराब पीना, गांजा पीना वगैरह तो सख्त से सख्त मना है; इन्हें ऐसे भी नहीं पीना या खाना चाहिए.

खास करके रमजान के महीने में रोजा रखकर ऐसी चीजों का इस्तेमाल करना गुनाह के काबिल है; इनसे गुनाह तो मिलेंगे ही साथी रोजा भी नहीं माना जाएगा।

बहुत लोग सोचते हैं, कि सिगरेट पीने से रोज़ा नहीं टूटता लेकिन आपको बता दे सीक्रेट भी नशे का ही एक रूप है; और इसे पीने से भी रोजा टूट जाता है.

रमज़ान में क्या खाना चाहिए?

बुरे काम करने से।

बुरे कामों को करने से रोजा टूट जाता है, यहां बुरे कामों से मुराद यह है; कि ऐसी कोई भी चीज का करना जिसे इस्लाम में मना या हराम करार किया गया हो तो उसे करने से रोजा टूट जाता है.

बुरे काम जैसे चोरी, लूटमार, डकैती, कत्ल वगैरह जैसे बुरे काम दीन ए इस्लाम में सख्त मना किया गया है; इन्हें करने वाला सच्चा मुसलमान नहीं होता.

रमज़ान में क्या करना चाहिए और क्या नहीं?

जुल्म करने से।

इस्लाम पाकी और मोहब्बत का मजहब है, इसमें किसी भी तरह का जुल्म करना गुनाह के काबिल होता है; और जुल्म करने वाले पर अल्लाह का अज़ाब पड़ता है.

जुल्म किसी भी तरह का हो सकता है, अगर कोई किसी बेकसूर, बेगुनाह पर किसी भी तरह का जुल्म करता हैं; तो अल्लाह उससे नाखुश होता है.

ऐसी में अगर रमजान के महीने में रोजा रखकर किसी बेगुनाह पर जुल्म किया जाएगा तो ऐसा करने वाला गुनाहगार होगा और उसका रोजा टूट जाएगा.

रमज़ान में रोजा रखने के फायदे।

मां बाप की नाफरमानी करने से।

अल्लाह और उसके रसूल के बाद सबसे बड़ा मर्तबा एक मोमिन का उसके मां-बाप का होता है; ऐसे में मां बाप की नाफरमानी करना बहुत ही बड़ा गुनाह है, हमें इससे बचना चाहिए.

आजकल तो यह अक्सर देखा जाने लगा है, कि बच्चे अपने मां बाप की नाफरमानी तो ऐसे करते हैं; जैसे मानो कि किसी आम शख्स की करते हो उन्हें अपने मां-बाप का मर्तबा ही नहीं मालूम होता.

वह अपने मां-बाप की बातों को अनदेखा कर देते हैं, उनकी बातों का पलटवार करते हैं, बहस करते हैं, जो कि बहुत बुरा है; ऐसा करने से रोजा टूट जाता है.

रमज़ान में सेहरी खाने की फज़ीलत।

उलटी होने से।

कसदन में मुंह भर के उल्टी करने से भी रोजा टूट जाता है, अगर उल्टी खुद-ब-खुद हुई होगी तो रोजा नहीं टूटता.

कई बार क्या होता है, कि लोगों को अंदर से कुछ अजीब-अजीब सा महसूस होता है; तो वह जानबूझकर उल्टी करने की कोशिश करते हैं, और ऐसा करने से उनका रोजा टूट जाता है.

रमज़ान का चाँद देखने की दुआ।

किसी का हक मारने से।

रोजे की हालत में किसी का भी हक मारना गुनाह है, इसे इस्लाम में हराम करार दिया गया है; ऐसे में रोजे की हालत में किसी का हक मारने से बहुत गुनाह मिलता है, और इससे रोजा रखने का कोई फायदा भी नहीं होता और रोजा टूट भी जाता है.

रमज़ान में क्या पढ़ना चाहिए?

गाली देना।

किसी को गाली देना ऐसे भी काफी बेकार चीज़ है और इस्लाम में ऐसा करना सख्त मना है, किसी को गाली दे देने से रोजा मकरु हो जाता है; साथ ही किसी की बुराई, चुगली या गिबत करने से भी रोजा टूट जाता है, क्योंकि यह चीजें इस्लाम में पहले से ही हराम करार कर दी गई हैं.

और इन्हें जानबूझकर या अनजाने में ही करने से गुनाह मिलता है, अगर अनजाने में किया गया हो तो तुरंत से तुरंत तौबा कर ले अल्लाह माफ करने वाला है.

ये भी पढ़ें –

ज़कात अदा ना करना।

जगा देना इस्लाम में पर किया गया है अगर अल्लाह ने आपको इस काबिल बनाया है कि आप बता दें तो आप पर रकात फर्ज है अगर आप रकात नहीं देते उसे जमा करके रखे रहते हैं सिर्फ अपना ही देखते हैं तो इससे आपको बहुत ज्यादा गुनाह मिलेगा.

और रमजान के महीने में ही ज़कात दीया जाता है; ऐसे में अगर रोजे में ज़कात ना दी जाए तो रोजे का सवाब नहीं मिलता यहां तक की ज़कात ना देने से ईद की नमाज भी नहीं मानी जाती.

जैसे रोजा रखना फर्ज है, ठीक इसी तरह ज़कात देना भी फर्ज है, इस लिहाज से अगर आप ज़कात अदा नहीं करते हैं; अगर आप पर फर्ज हो तो आप एक फर्ज को ठुकरा दिए.

ऐसे में एक फर्ज को जानबूझकर छोड़ देना और दूसरे को कर देने से अल्लाह कैसे खुश होगा; ऐसा में आपका रखा रोजा सिर्फ भूखा और प्यासा रहना ही कहलाएगा.

क्या रमज़ान में हमबिस्तरी कर सकते हैं?

क्या रमज़ान में नाखून काट सकते हैं?

कान व नाक में दवा का डालना।

कान व नाक में दवा का डालने से यहां तक की अगर ना किया कान में तेल भी डाल लिया जाए तो इस से रोजा टूट जाता है.

अब काफी लोग ऐसे भी होंगे जिन्हें डॉक्टर ने नाक या कान में दवा डालने के लिए दी होगी अब वह सोच रहे होंगे; कि आखिर वह कैसे रोज रखें.

तू ऐसे हालत में हम आपको बता दें आप सेहरी से पहले दवा डाल सकते हैं, और इफ्तार के बाद भी.

अगर दिन में दो-तीन बार दवा डालने की नौबत हो तो आप दिन में दवा डालने का काम रात को कर सकते हैं; इससे आपका रोजा भी हो जाएगा और आप का इलाज भी सही से होगा.

ये भी पढ़ें –

जानबूझकर दांतों में फसा खाना निगल जाना।

कई बार ऐसा होता है, कि हम सेहरी करके सही से मिस्वाक नहीं कर पाते और अजान हो जाती हैं; जिस वजह से हमारे दांतों में खाने की कुछ चीजें दांतों में ही फंस जाती है, जिसे हम नजरअंदाज कर देते हैं.

और जब हमें यह महसूस होता है; कि हमारे दांतो में कुछ फंसा है, और हम उसे बाहर थूकने के बजाय पेट में ले लेते हैं; तो ऐसा करने से रोजा टूट जाता है.

इसलिए आप सेहरी करके मिस्वाक जरूर करें इससे आपको ताजगी भी महसूस होगी और रोजा टूटने का चांस भी कम हो जाएगा.

मुश्त-ज़नी (masturbation) करने से।

मुश्त-ज़नी (masturbation) करने से रोजा टूट जाता है, क्यूंकि इस्लाम में खुद ब खुद यानी हाथों से लज्जात हासिल करना हराम है; और गुनाह के काबिल है.

हराम होने की वजह से इसे रमजान के मुबारक महीने में करने से रोजा टूट जाता है, और इसका गुनाह भी अलग से मिलता है.

अफसोस की बात यह है, कि आज के समय में हमारे नौजवान गलत काम में फंस चुके हैं; और वह ऐसा करके अपनी दुनिया और आखिरत दोनों ही बर्बाद कर रहे हैं. हमारी अल्लाह से दुआ है कि अल्लाह उन्हें हिदायत और तौबा अता फरमाए आमीन !!!

आज आपने क्या जाना?

दोस्तों आज हमने roza kin cheezon se toot jata hai और roza todne wali cheezen क्या है? इनपर बात की और आपको आसान लफ्जों में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है. उम्मीद है ! आपको आपके तमाम सवालों के जवाब मिल गए होंगे.

हमारी अल्लाह से दुआ है, कि अल्लाह इन तमाम चीजों को करने से हमें अपनी पूरी जिंदगी में बचाए और हमें नेक और सही राह पर चलने की तौफीक अता फरमाए आमीन !!!

आपको यह पोस्ट कैसी लगी और आप में क्या सलाह देना चाहते हैं, कमेंट में जरूर बताएं अल्लाह हाफिज रमजान मुबारक !!!

Quransays.in

- Advertisement -spot_img

More articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article