Namaz ke baad ki tasbeeh in hindi – Har farz namaz ke baad ki tasbeeh

Must read

Namaz ke baad ki tasbeeh पढ़ना बेहद ही जरूरी होता है, भले ही आप सुन्नत, नफील और वाजिब नमाज के बाद namaz ki tasbeeh ना पढें लेकिन har farz namaz ke baad ki tasbeeh पढ़ना जरूरी है.

बता दें har farz namaz ke baad ki tasbeeh पढ़ना सवाब का काम है, जिसकी फजीलत हदीसों में खूब बयान की गई है; हदीसों में आया है, कि जो शख्स हर नमाज के बाद की तस्बीह पड़ता है, तो उसके गुनाह माफ हो जाते हैं.

लेकिन अक्सर यह देखा गया है, कि लोग अपनी नमाज़ों को पढ़ कर जल्दी से अपने घरों को चले जाते हैं; और Namaz ke baad ki tasbih को नहीं पढ़ते जिस वजह से वह इसकी फजीलतों से मेहरूम रह जाते हैं.

आज हम आपको नमाज के बाद की तस्बीह तफसील से बताएंगे जिससे कि आपको यह तस्बीह आसानी से समझ आ जाए और आप सवाब हासिल कर सकें.

Namaz ke baad ki tasbeeh

Namaz ke baad ki tasbeeh जो हम पढ़ते हैं, वह नमाज के बाद की दुआ में भी शामिल है; यानी आप इस तस्बीह को हर फर्ज नमाज के बाद की दुआ में भी पढ़ सकते हैं, और फजीलत तो इसकी बेशुमार है.

दोस्तों बता दें तस्बीह का मतलब होता है, अल्लाह का जिक्र अपने लबों से करना और यह हम सभी जानते हैं; कि अल्लाह का जिक्र जिसके लबों पर हमेशा रहता है, वह कभी परेशान नहीं होता और कामयाबी उसकी कदम चूमती है.

Namaz ki ke baad ki tasbeeh काफी ज्यादा है, आप जितना ज्यादा अल्लाह का जिक्र करेंगे आपको उतना ज्यादा सवाब मिलेगा इसमें अस्तगफिरुल्लाह भी शामिल है; और हमें ऐसे भी हर वक्त अस्तगफिरुल्लाह और तौबा अस्तगफार करते रहना चाहिए इससे गुनाह माफ होते हैं.

लेकिन इसके अलावा एक खास तस्बीह है जो हर फर्ज नमाज के बाद पढ़ी जाती है, उसे हम जान लेते हैं; क्योंकि इस की फजीलत काफी ज्यादा है.

पांच वक्त की नमाज पढने का सही और मुकम्मल तरीका।

Har farz namaz ke baad ki tasbeeh

Har farz namaz ke bad ki tasbeeh पढ़ी जाती है, जो कि बेहद ही खास है, इस तस्बीह में हम अपने अल्लाह का जिक्र और उसकी शुक्र अदा करते हैं, फर्ज नमाज के बाद की तस्बीह में सुबहानअल्लाह, अलहमदुलिल्लाह और अल्लाह हू अकबर शामिल है.

इस तस्बीह को आपको अपनी हर फर्ज नमाज के बाद पढ़ना है, और आप इसे एक मर्तबा नहीं पढ़ सकते हदीसों में आया है; कि अगर आपके पास समय नहीं है, तो आप इसे कम से कम 10-10 मर्तबा पढें.

लेकिन नीचे जो हमने आपको कितनी मरतबा तस्बीह पढनी है, बताया है, उन्हें पढ़ना ज्यादा अफजल है, और आप उन्हें ही पढें.

जुमे का बयान जरूर पढें। –

Namaz ki tasbeeh in hindi

  • 31 मरतबा सुबहानअल्लाह।
  • 31 मरतबा अलहमदुलिल्लाह।
  • 34 मरतबा अल्लाह हू अकबर पढें।

दोस्तों यह हो गई namaz ke baad ki tasbeeh इसके अलावा आप अल्लाह के 99 नामों का भी जिक्र और साथ ही साथ दरूद शरीफ का विर्द भी कसरत से कर सकते हैं

उम्मीद है ! आपको आज की यह पोस्ट पसंद आई होगी अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो; तो आप इसे अपने व्हाट्सए, फेसबुक पर भी शेयर जरूर करें ताकि हर मुसलमान को यह तस्बीह आ जाए.

अल्लाह हाफिज !!!

Quransays.in

- Advertisement -spot_img

More articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article