Jume ki namaz ki niyat in hindi | Jume ki namaz ki niyat kaise bandhe?

Jume ki namaz ki niyat जुमे की नमाज़ शुरू होने से पहले बांधी जाती है जो की अहम है और इसके बिना नमाज़ नहीं मानी जाती.

यूँ तो जुमे की नमाज़ पढने से पहले नमाज़ की नियत का पढना जरुरी या फर्ज तो नहीं सिर्फ दिल में नमाज़ की रकात और नियत का होना जरूरी लेकिन अगर मुंह से नियत कर ली जाए तो बेहतर है.

इसलिए आआज हम आपको juma ki namaz ki niyat और jume ki namaz ki niyat kaise bandhe? बताएंगे इसलिए हमारे साथ बने रहें.

Jume ki namaz ki niyat

जुमे की नमाज़ की नियत बाकी रोज़ाना की पांच वक्त की नमाज़ की तरह ही होती है बस जुमे की नमाज़ का जिक्र करना होता है.

बता दें जुमे की नमाज़ काफी अहम नमाज़ होती है और जुमे की नमाज़ की फजीलत भी काफी ज्यादा है इसलिए इस नमाज़ की मुकम्मल मालूमात हर किसी को होनी चाहिए.

Jume ki namaz ki niyat in hindi

Jume ki namaz ki niyat in hindi textनियत करता हूं मैं दो रकात नमाज़ जुमे की फर्ज वास्ते अल्लाह त’आला के पिछे इस इमाम के मुंह मेरा काबा शरीफ की तरफ अल्लाह हू अकबर

यह नियत सबसे आसान लफज़ों में बताई गई है जिसे आप आसानी से याद कर सकते हैं.

Jume ki namaz ki niyat kaise bandhe?

जुमे की नमाज़ की नियत बांधने के लिए इन स्टेप्स को फालो करें – – –

  • वज़ु बनाएं।
  • फिर जब सब लोग नमाज़ के लिए खडे हों तब आप भी खडे हो जाएं।
  • तरीके से खडे होते ही आप जुमे की नमाज की नियत पढें।
  • नियत पढने के बाद खडे रहें और जब इमाम साहब अल्लाह हू अकबर कहें तो आप अपने हाथों को कानों तक ले जाएं फिर अपने हाथों को बांध लें।
  • आपकी नियत बंध गई अब आप नमाज़ अदा करेंगे।

Jume ki namaz ki niyat likhi hui

JUME KI NAMAZ KI NIYAT HINDI ME

नियत करता हूं मैं दो रकात नमाज़ जुमे की फर्ज वास्ते अल्लाह त’आला के पिछे इस इमाम के मुंह मेरा काबा शरीफ की तरफ अल्लाह हू अकबर

jume ki namaz ki niyat

Jume ki namaz ki niyat in arabic

अगर आप जुमे की नमाज़ की नियत अरबी अल्फाज़ में पढना या बोलना चाहते हैं तो आप नीचे लिखे नियत को पढ कर याद कर सकते हैं.

JUMA KI NAMAZ KI NIYAT IN ARABIC

نویت ان اصلی للہ تعالی رکعتی صلاة الجمعة فرض اللہ تعالی متوجها إلى جهة الكعبة الشريفہ اللہ اکبر

Jume ki namaz ki niyat in urdu

उर्दू में जुमे की नमाज़ की नियत कुछ इस तरह पढी जाती है और उर्दू में नियत कुछ इस तरह है.

JUMA KI NAMAZ KI NIYAT IN URDU

نیت کی میں نے اس نماز کی پڑھتا ہوں واسطے اللہ تعالی کے دو رکعات نماز فرض ، فرض اللہ تعالی کے وقت نماز جمعہ منہ میرا خانہ کعبہ شریف کی طرف۔ اللہ اکبر

Jume ki namaz ki niyat in english

अंग्रजी अल्फाज़ में जुमे की नमाज़ की नियत कुछ इस तरह तरह लिखी हुई है.

JUMA KI NAMAZ KI NIYAT IN ENGLISH TEXT

Niyat karta hu main do rakat namaz jume ki vaste Allah Ta’aala ke peeche is imam ke mooh mera Kaaba Shareef ki taraf Allah Hu Akbar.

तो दोस्तों यह थी हमारी आज की पोस्ट आज हमने आपको जुमे की नमाज़ की नियत कई अल्फाज़ में बताई उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी.

आपसे गुज़ारिश है ! कि अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने वाट्सअप और फेसबुक पर शेयर करना ना भूलें.

अल्लाह हाफिज !!!

Quransays.in

Leave a Comment