HUM KO BULANA YA RASOOL ALLAH NAAT LYRICS

Must read

Hum ko bulana ya rasool allah naat lyrics आज हर मुस्लमान जानना चाहता है; क्यूंकि हर सच्चे मुस्लमान को अपने नबी से मुहब्बत है, और वह नात गुनगुनाता और अपने नबी से मुहब्बत का इजहार करता है.

दोस्तों ज्यादातर नातें eid milad un nabi के मौके पर ही गाई जाती है; लेकिन Hum ko bulana ya rasool allah naat हर मौसम और पल में गाई जाती है.

चूंकि यह नात बहुत मशहूर है, तो इसे लोग गाना पसंद करते हैं, लेकिन नात सुनने के बाद वह गलत लाइनें पढ़ देते हैं; क्यूंकि उन्हें उस नात की सही लिरिक्स नहीं मालूम होती.

सही लिरिक्स ना मालूम होने की वज़ह से लोग hum ko bulana ya rasool allah naat गलत गा देते हैं; जिससे वह जाने अनजाने में गुनाह कर देते हैं.

Charon kul padhne ke fayde jankar aap hairan ho jayenge…

Note – गुनाह ऐेसे की नात में हमारे नबी जिक्र होता है; और अगर नात को हम गलत पढेंगे तो इससे हमारे नबी की शान में गुस्ताखी होगी.

वैसे भी कोई मुस्लमान अपने नबी की शान में गुस्ताखी नहीं करना चाहता; इसलिए हम आज Hum ko bulana ya rasool allah naat lyrics लेकर आए हैं.

तो चलिए शुरू करते हैं…

Hum ko bulana ya rasool allah naat lyrics

हमको बुलाना या रसूल अल्लाह नात एक एक खूबसूरत और मशहूर नात है; इस नात को काफी शिद्दत से लिखा और गाया गया है.

इस नात में एक बात को समझाया गया है, कि आखिर एक मोमिन अपने नबी से कितना प्यार करता है; और वह मदीना जाना चाहता है, जिसके लिए वह अपने नबी का वास्ता अल्लाह को देता है.

Ye bhi padhe…

जरूरी बात (kabhi to sabz gumbad ka ujaala naat lyrics)

Naat name Hum ko bulana ya rasool allah
Artist (singer) Owais Raza Qadri
Youtube Channel Regional geet sangeet
Total views 3.4 crore + (30.4 million)
Hum ko bulana ya rasool allah naat lyrics

Hum ko bulana ya rasool allah naat lyrics in hindi

हम को बुलाना या रसूल अल्लाह, हम को बुलाना या रसूल अल्लाह.

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे, हमें बुलवाएंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे.

धडक उठेगा दिल या धडकना भूल जाएगा दिल ए बिस्मल का उस दर पर तमाशा हम भी देखेंगे.

अदब से हाथ बांधे उनके रोज़े पर खरे होंगे, सुनहरी जालियों का यूं नज़ारा हम भी देखेंगे.

बरसती गुम्बद ए खिज़रा से तरकती हुई बुंदे, वहां पर शान से बारीश बरसाना हम भी देखेंगे.

दर ए दौलत से लौटाया नहीं जाता कोई खाली वहां खैरात का बाटना खुदा या हम भी देखेंगे.

गुज़ारे रात दिन अपने इसी उम्मीद पर हमने किसी दिन तो जमाल ए रू ए ज़ेबा हम भी देखेंगे.

दम ए रुखशत कदम मन भर के हैं महसूस करते हैं; किस्स है जाके लौट आने का यारा हम भी देखेंगे.

पहुंच जाएंगे जिस दिन ए उजागर उनके कदमों में किस्स कहते हैं, जन्नत का नज़ारा हम भी देखेंगे.

Ye bhi padhe…

Hum ko bulana ya rasool allah naat lyrics in hindi

Hum ko bulana Ya Rasul Allah, Hum ko bulana Ya Habib Allah.

Kabhi to sabz gumbad ka ujaala hum bhi dekhenge; Hume bulwayenge aaqa Madinah hum bhi dekhenge.

Dhadak uthe ga dil ya dhadakna bhool jayega; Dil e bismil ka uss dar per tamasha hum bhi dekhenge.

Adab se haath baandhe unke roze par khare hoonge; Sunehri jaliyon ka youn nazara hum bhi dekhenge.

Barasti gumbad e khizra se tarakti huwi bundhe; Wahan par shan se barish barasna hum bhi dekhenge.

Dar e dawlat se lawtaya nahin jaata koi khaali; Wahan khayrat ka batna khuda ya hum bhi dekhenge.

Guzare raat din apne issi umeed par humne; Kisi din to Jamal e roo e zeba hum bhi dekhenge.

Dum e rukhsat qadam man bharke hain mehsoos karte he; Kisse he jaake lawt aane ka yaara hum bhi dekhenge.

Pahonch jayenge jiss din e ujaagar unke qadmon me; Kisse kehte hain jannat ka nazara hum bhi dekhenge.

Conclusion (नतीजा)

तो दोस्तों य़ह थी हमारी आज की पोस्ट इसमें हमने आपको एक बेहद मशहूर hum ko bulana ya rasool allah naat lyrics को बताया.

उम्मीद है, आपको हमारी पोस्ट पसंद आई होगी अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो; तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करें.

आज के लिए बस इतना ही मिलते हैं, आपसे अपनी नई पोस्ट में तब तक के लिए अल्लाह हाफिज !!!

Note – अगर आप नात सुनने और गाने के शौकीन हैं, और नई-नई नातों की सही लिरिक्स जानना चाहते हैं; तो आप कमेंट में उस नात का नाम जरूर बताएं.

Quransays.in

पिछला लेखBijli kadakne ki dua in hindi
अगला लेखJanaze ki namaz ka tarika
- Advertisement -spot_img

More articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article