Hajj kis par farz hai in hindi 2022? – हज किस पर फर्ज है हिंदी में

Must read

Hajj kis par farz hai in hindi 2022? ये जानना उस इंसान के लिए बेहद जरूरी है जो चाहता है कि 2022 में वह हज करें. लेकिन हज करने से पहले आपको ये पता होना चाहिए कि kya aap par hajj farz hai? और अगर आप पर हज फर्ज भी तो आपको जरूर करना है और अगर नहीं हुई तो नहीं करना है जब तक आप उसके फर्ज के लायक ना हो जाये. 

यह बात तो हम सभी जानते हैं कि हज हर एक मुसलमान के लिए फर्ज है, लेकिन इस पर भी कुछ शर्तें हैं कि किस इंसान पर हज फर्ज होगी और किस पर नहीं. हर मुसलमान चाहता है कि अपनी जिंदगी में कम से कम एक बार तो हज जरूर करें और अपने मां-बाप को भी कराए.

तो आइये आपको बताते हैं कि Hajj kis par farz hai………. फिर हम जानेंगे कि हज के फर्ज होने की क्या शर्तें हैं………

Hajj kis par farz hai in hindi 2022?

हर एक बालिग लड़के या लड़की पर हज फर्ज हो जाती है जब वो अपनी जिंदगी में कम-से-कम एक बार हज करने के काबिल हो जाता है. यानी कि वो शख्स जो हज को जा रहा है वो शारीरिक तौर, दिमागी तौर और पैसे से मजबूत होना चाहिए. और अपने देश से सऊदी और वहाँ हज करके अपने देश वापस आने की लागत उठाने की हैसियत रखता हो उसपर हज फर्ज हो जाती है. 

एक बात याद रखें, जो शख्स ऊपर लिखी चीजों को पूरा कर लेता है उसपर हज फर्ज हो जाती है. लेकिन ऊपर लिखी चीजों के साथ-साथ हज पर गए शख्स को इस बात का ख्याल रखना होगा कि जब वो अपना देश छोड़कर अल्लाह के करीब हो यानी जब हज पर हो तो उसका परिवार जो हज पर नहीं आया है उसका पेट भर रहा हो; इसका मतलब कि उसका घर जैसा चलता था वैसा ही चल रहा हो. 

आइये अब आपको इन सभी शर्तों को एक-एक करके गहराई में बताते हैं. चलिए शुरू करते हैं Hajj farz hone ki sharte………

हज करने से पहले इन चीजों को जान लें। –

Hajj farz hone ki sharte in hindi 2022

तो दोस्तों अभी तक हमने ये जाना कि Hajj kis par farz hai aur hajj kab farz hota hai और आपको इसकी पूरी जानकारी अच्छे से दी. लेकिन इसके अलावा कुछ शर्तें भी हैं जिन्हें आपको मानना है और जिसके बाद ही आप हज पर जा सकते हैं. 

और तभी जाकर आपका हज माना जाएगा, बिना इन शर्तों के पूरा हुए हज नहीं होगी……..

ये हैं हज के फर्ज होने की शर्तें हिन्दी में…..

Hajj farz hone ki sharte नीचे लिखी हुई हैं, आपसे गुजारिश है कि आप इन्हें जरूरी फॉलो करें……. 

आप पर हज फ़र्ज़ होने के लिए नीचे लिखी चीजों का होना जरूरी है….. 

  1. बालिग हो और मुसलमान हो जो अल्लाह को मानने वाला हो. 
  2. ईमान से भरपूर, और हज की नियत करना जरूरी है. 
  3. हज करने जितना पैसा हो.
  4. दिमागी और शारीरिक तौर पर ठीक ठाक. कोई ऐसी बीमारी ना हो जिससे अल्लाह की इबादत करने मे कोई परेशानी आए. 
  5. सऊदी जाने पर आपका घर जैसा चल रहा था वैसा ही चल रहा हो. 
  6. समय निकाल सके हज के लिए.

तो ये थी कुछ ऐसी शर्ते जिनका पूरा होना जरूरी है हज को जाने से पहले. तो अभी तक हमने Hajj kis par farz hai in hindi 2022 और Hajj farz hone ki sharte जानी हैं. अब हम Hajj farz hone ki shart को एक-एक करके डिटेल में जानेंगे………

ये भी जानें।

#1. बालिग हो और मुसलमान हो जो अल्लाह को मानने वाला हो. 

हज को जाने की सबसे पहली और सबसे बड़ी शर्त तो यह है कि हज को जाने वाला शख्स (लड़का या लड़की) मुसलमान हो; और अल्लाह को मानने वाला हो यानी इस्लाम पर उसका ईमान पक्का हो.

और उस शख्स का बालिग होना भी जरूरी है. अगर बालिग नहीं है तो अपने माँ-बाप के साथ जा सकते हैं अगर वो आपका भी खर्च अपने खर्च के साथ उठाने के लायक है; ऐसे में माँ-बाप और उसके बच्चे दोनों को ही हज का सवाब मिलेगा. और अगर जब आप बालिग हो जायें तो आप खुद भी जा सकते हैं हज को. 

#2. ईमान से भरपूर, और हज की नियत करना जरूरी है.

ये बेहद ही जरूरी हिस्सा है इस आर्टिकल Hajj kis par farz hai in hindi 2022? का, जो ये कहता है….. की जिस शख्स के पास बेशुमार पैसा है और फिर भी वह हज को नहीं जा रहा है तो वह मुसलमान नहीं है; और वो ये नहीं चाहता कि उसके लाखों रुपए हज करने में लग जाएं. लेकिन आपको बता दूं कि अगर आपको अल्लाह ने पैसों से नवाजा है तो आप पर हज फर्ज हो जाता है.

लेकिन कुछ लोगों में ईमान की कमी देखी गई है जो पैसा होने के बावजूद हज को नहीं जाते और ना ही अपने मां-बाप को भेजते हैं. तो ऐसे में उस शख्स में ईमान की कमी हुई इसलिए वह हज को नहीं गया इस कारण से वह मुसलमान नहीं हुआ.

और अगर आप में इस्लाम के लिए पक्का ईमान है तो आप अपने पैसों का इस्तेमाल हज करने में जरूर करेंगे. और ईमान के साथ-साथ आपको हज की नियत भी करना जरूरी है. बिना नियत के आपकी हज ना तो शुरू होगी और ना ही मनाएगी.

हज से पहले नमाज़ पढने का सही तरीका जरूर जानें। –

#3. हज करने जितना पैसा हो.

जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया कि कुछ लोगों में ईमान की कमी होती है तो वह पैसा होने के बावजूद हज को नहीं जाते. वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं जो हज करने को इतना बेताब होते हैं कि अपने पेट को मारकर भी पैसा बचाते हैं हज करने के लिए. लेकिन आपको बता दूं कि ऐसा करना भी बिलकुल गलत है. 

अगर आपके पास हज करने जितना पैसा है तो आप जरूर हज पर जाए अगर नहीं है तो आप हज करने को जाने की कोशिश करें जब तक आपके पास हज करने जितना पैसा न हो जाये; अगर किसी कारण से हज को जाने जितना पैसा नहीं जुट पाया तो आप पर हज फर्ज नहीं होगी. और अगर किसी से पैसा कर्ज (खासकर हज के लिए) लेकर हज पर जाते हैं तो आपका हज नहीं होगा क्योंकि कर्ज के पैसों पर हज नहीं होती.

एक बात और याद रखें कि अगर आप पर किसी का कर्जा है तो आपको पहले उस कर्ज को चुकाना चाहिए और सिर्फ हज को जाना चाहिए. और अगर अपना कर्ज उतारने के बाद आपके पास हज पर जाने जितना पैसा नहीं बचता तो आप पर हज फर्ज़ नहीं होगी. लेकिन अगर जिससे आपने कर्ज लिया है वो उस कर्ज को माफ़ कर रहा है ताकि आप उस पैसे से हज पर जा सके तो आप उस पैसे से जरूर हज पर जा सकते हैं. 

और उस आदमी को भी सवाब मिलेगा जिसने आपका कर्ज माफ़ किया ताकि आप हज पर जा सके. ये पहलू भी जानना उस शख्स के लिए बेहद जरूरी है जो Hajj kis par farz hai in hindi 2022? जानना चाहता है. 

#4. दिमागी और शारीरिक तौर पर ठीक ठाक.

इस चीज को समझना बहुत जरूरी है अगर आप Hajj kis par farz hai in hindi 2022? को अच्छे से समझना चाहते हैं तो. क्यूंकि हज को जाने के लिए ये एक बहुत जरूरी चीज़ है जो हज को जाने वाले बन्दे के पास होनी चाहिए. 

आपको पता होगा कि हज के दौरान हमें बहुत लंबा-लंबा सफर तय करना होता है सफा-मरवा के पहाड़ों और बाकी जगहों पर. ऐसे में हमें ये पता होना चाहिए कि; क्या हम लंबे-लंबे सफर तय कर पाएँगे वो भी पैदल. अगर हाँ, तो आप का हज पर जाना फर्ज हो जाएगा (बशर्ते आप बाकी सभी शर्तों पर भी खरे उतरे हो). और ऐसा तभी मुमकिन है जब आप शारीरिक तौर पर मजबूत और ठीक-ठाक होंगे.

और अगर आप अपने आप को शारीरिक तौर पर मजबूत समझते हैं और लंबे लंबे सफर तय कर सकते हैं तो आप पर हर फर्ज हो जाएगी; लेकिन इसके साथ एक और चीज आपको याद रखनी है कि आपको मानसिक तौर पर कोई बीमारी ना हो. यानी कि हज पे जाने वाले बंदे को दिमाग से कोई तकलीफ ना हो, जैसे पागल ना हो, दिमाग से अविकसित ना हो, या कोई दिमागी बीमारी ना हो.

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हज के दौरान अल्लाह की इबादत करनी होती है और अगर कोई हज को जाने वाला शख्स दिमागी तौर से विकसित नहीं है या पागल हो तो; वो अल्लाह की इबादत में नमाज, कुरान की पाबंदी नहीं कर पाएगा. इसलिए दिमाग से कमजोर लोगों पर भी हज फ़र्ज़ नहीं है.

जुमा का बयान जरूर पढें। –

#5. सऊदी जाने पर आपका घर जैसा चल रहा था वैसा ही चल रहा हो.

जैसा कि मैंने आपको पहले बताया कि हज उस आदमी पर फर्ज होता है जो पैसों से मजबूत हो; इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं होता कि आप अपने हर चीजों को काट-तोड़ करके हज के लिए पैसे जुटाएं. आप हज के लिए पैसा जुटायें लेकिन अपनी जरूरतों को पूरा करने के बाद. 

इसी तरह से अगर आपके पास इतना पैसा है कि आप सऊदी जाकर हज करके अपने देश वापस आ जाएं तो आप हज पर जरूर जाएं; बशर्ते आपका घर जैसा चल रहा था वैसा ही चले. इसका मतलब यह होता है कि आपके गैर हाजरी में आपके घरवालों को किसी भी चीज की कमी ना हो, जैसे खाना-पीना, कपड़ा, स्कूल-मदरसे की फीस से जुड़ी कोई परेशानी ना आए.

अगर ऐसी परेशानियां आ रही है तो आप पर हज फ़र्ज़ नहीं है. और अगर आपके सऊदी जाने से आपके घर पर कोई असर नहीं हो रहा तो आप पर हज फर्ज हो जाती है. 

#6. समय निकाल सके हज के लिए

अगर ऊपर लिखी चीजों को आप पूरा कर लेते हैं लेकिन एक दिक्कत आ जाती है कि; जहां आप काम करते हैं वहां से आपको छुट्टी मांगने पर नहीं मिली तो आप पर हज फ़र्ज़ नहीं होगा. और अगर आपको हज के लिए छुट्टी मिल गई तो आप पर हज (ऐसे में) फर्ज हो जाएगा.

इससे ये भी पता चलता है कि अगर कोई गुलाम को कैद किया हुआ है और उसे कहीं आने जाने की आजादी नहीं दी गई है तो उसपर भी हज फ़र्ज़ नहीं है. बिल्कुल इसी तरह अगर जहां आप काम करते हैं और वहां का मालिक आपको छुट्टी नहीं दे रहा हज को जाने के लिए तो ऐसे में हज फ़र्ज़ नहीं. और अगर वो छुट्टी दे दे तो आप पर हज फर्ज हो जाता है. 

अब मान लीजिए कि छुट्टी देने पर मालिक आपकी पगार काट रहा है जिससे आपको भारी नुकसान हो सकता है तो भी आप पर हज फ़र्ज़ नहीं होती.

इन चीजों की मालूमात होना हर मुसलमान को होना चाहिए। –

तो दोस्तों ये थी आज की हमारी जानकारी से भरी पोस्ट जिसमें हमने जाना कि Hajj kis par farz hai in hindi 2022? और उम्मीद करते हैं कि आपको अच्छे से समझ में आया होगा जो हम समझाना चाहते थे. और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों और घरवालों के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी हज के फर्ज होने की शर्तें पता चल सके. 

इस आर्टिकल को सोशल मीडिया जैसे, इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप और फेसबुक पर भी जरूर शेयर करें………. 

quransays.in

- Advertisement -spot_img

More articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article