Hajj ke wajibat in hindi – Hajj ke wajibat kitne hain? हज के वाजिबात हिंदी में।

Must read

Hajj ke wajibat in hindi को जानना हर मुसलमान हज यात्रियों को जरूरी है; क्योंकि अगर यह वाजिबात गलती से छुट जाते हैं, तो सवाब कम मिलता है.

हज के अरकान के अलावा hajj ke wajibat को अदा करना भी जरूरी है; और अगर यह वाजिबात छुट गए तो दम देना वाजिब हो जाएगा और उसकी अदायगी से हज मुकम्मल और कबूल हो जाएगा.

Hajj ke wajibat kitne hain?

Hajj ke wajibat kitne hain? तो बता दें हज के वाजिबात कई हैं, लेकिन अहम और मोटे मोटे हमने नीचे आपको बता दिए जिसमें मिकात से पहले एहराम बांधना, मुजदलीफाह में ठहर कर वुकूफ करना और सफा मरवा में सई करना शामिल है.

हज करने से पहले इन चीजों को जान लें। –

Hajj ke wajibat in hindi

  • मिकात से पहले ऐहराम का बांधना।
  • मुज़दालिफाह में ठहर कर वुकूफ करना।
  • तवाफ ए जियारत का अय्याम ए कुरबनी करना।
  • सफा – मरवा में सई करना।
  • सई की शुरुआत सफा से करनी है।
  • सफा – मरवा में सात चक्कर लगाना।
  • 10,11 और 12 जिल-हिज्जा को जमरात पर कंकडियां मारना।
  • हर तवाफ के बाद दो रकात नफल पढना।
  • हरम की जमीन पर बालों को छोटा या गंजा करना।
  • पाक साफ होकर बैतुल्लाह का तवाफ करना।
  • तवाफुल विदा करना।

तो दोस्तों यह थी कुछ हज की वाजिबातें जो अहम हैं, और इनका जानना जरूरी है; और इनको हज के दरमियान में अदा करना जरूरी है, नहीं तो आपका हज मुकम्मल नहीं होगा उसको मुकम्मल करने के लिए आपको फिर दम यानी कुर्बानी करनी होगी।

आइए अब हम इन तमाम वाजिबातों को तफसील से जान लेते हैं; ताकि आप इन वाजिबातों को समझ सके और आपसे हज के दरमियान कोई गलती ना हो.

मिकात से पहले ऐहराम का बांधना।

हज के लिए मिकात से पहले एहराम का बांधना जरूरी होता है, मिकात मक्का से लगभग 90km है; जहां एहराम बांध के ही हज या उमराह को जाना होता है.

लेकिन जब हम अपने मुल्क से सऊदी अरब पहुंचते हैं, तो हमारी हवाई जहाज मिकात से गुजरती है; यानी हम मिकात में ठहरते नहीं इसलिए आप अपने घर से या हो सके तो एयरपोर्ट से ही एहराम बांध ले.

हज से पहले नमाज़ पढने का सही तरीका जरूर जानें। –

मुज़दालिफाह में ठहर कर वुकूफ करना।

10 जिल-हिज्जा को सुबह सादिक से पहले से लेकर तुलु ए अफताब के शुरू होने तक हाजी को अराफात के मैदान से जब वह मगरिब की नमाज पढ़कर मुज़दालिफाह एक मैदान है, वहां रवाना होता है, तो वहां ठहरकर अल्लाह का जिक्र ओ अज़कार करना वाजिब है.

इसलिए आप 9 जिलहिज्जा को शाम में मगरीब या ईशा की नमाज पढ़ने के बाद मुजदलीफाह के लिए रवाना हो जाएं; क्योंकि वहां सुबह सादिक से पहले पहले तक पहुंच कर ठहरना वाजिब है.

और मुजदलीफाह में ठहरकर मगरिब, ईशा की नमाज पढ़ना ज्यादा बेहतर है, ऐसा करना अफजल माना जाता है; और मुजदलीफाह में ठहरना hajj ke wajibat in hindi में शामिल है.

तवाफ ए जियारत का सही वक्त में कुरबनी करना।

तवाफ ए जियारत का सही वक्त पर कुर्बानी करना जरूरी है, और सही वक्त इसका 10, 11 और 12 जिल-हिज्जा को गुरूब ए अफताब से पहले-पहले तक करना वाजिब ह.

खुद का तवाफ ए जियारत करना फर्ज है, लेकिन कुर्बानी करना इस खास वक्त पर वाजिब है, इस बात का ध्यान रखें.

सफा – मरवा में सई करना।

हज में जब बैतुल्लाह के चक्कर लगाने के बाद आदमी फारिग हो जाए तो उसके बाद सफा मरवा पहाड़ी पर जाकर सई करना वाजिब है, अगर यह छुटा तो एक बकरा ज़िब्ह करना जरूरी हो जाएगा.

जुमा का बयान जरूर पढें। –

सई की शुरुआत सफा से करनी है।

सई की शुरुआत सफा से करना वाजिब है, सई आपको सफा से ही शुरू करनी है, और सफा – मरवा में 7 चक्कर लगानी है; अगर सई सफा से शुरु ना होकर मरवा से होती है, तो चक्कर तो पुरे होंगे लेकिन वाजिब छुट जाएगा जिसको अदा करने के लिए फिर दम करना होगा.

सफा – मरवा में सात चक्कर लगाना।

जैसा कि हमने बताया सई सफा से शुरु होती है, और मरवा पर खत्म और इसमें 7 चक्कर लगाना वाजिब है.

इन चीजों की मालूमात होना हर मुसलमान को होना चाहिए। –

10,11 और 12 जिल-हिज्जा को जमरात पर कंकडियां मारना।

कुर्बानी के 3 दिन यानी 10, 11 और 12 जिल-हिज्जा को जमरातों पर कंकरिया मारी जाती है, जिसे हम रमी कहते हैं; इन 3 दिनों में जमरातों को कंकरिया मारना जरूरी है, जमरात यानी शैतान को हम अपने आम भाषा में कहते हैं.

अगर किसी शख्स की 1 दिन की भी रमी यानी कंकड़ी मारना छूट गया तो उस पर दम वाजिब हो जाएगा.

हर तवाफ के बाद दो रकात नफल पढना।

जब आप कोई भी तवाफ कर रहे हों भले ही वह नफिल तवाफ ही क्यों ना हो उसके बाद 2 रकात नफिल नमाज पढ़ना वाजिब होता है; लेकिन इसकी एक शर्त है, कि आप मकरूह वक्त में नफल नमाज़ ना पढें मकरुह वक्त फजर और असर की नमाज के बाद होता है, जिस वक्त नफिल नहीं पढ़ी जाती.

हरम की जमीन पर बालों को छोटा या गंजा करना।

आप लोगों ने यह अक्सर देखा होगा कि जब हाजी हज करके लौटते हैं, तो उसके बाल छोटे होते हैं, या पूरे गंजे होता है; तो आपको बता दें ऐसा इसलिए क्योंकि बालों का छोटा करना या गंजा होना हज के वाजिबातों में से एक है.

जब हज करके हाजी फारिग हो जाते हैं, तो हरम की ही जमीन पर बालों को छोटा या गंजा करना उन पर वाजिब हो जाता है; अगर वह ऐसा ना करें तो हज तो होगा लेकिन उन्हें वाजिद छूट जाने की वजह से दम करना होगा.

हरम की जमीन पर बालों को छोटा या गंजा कुर्बानी में करना।

यह तो आपको पता चल गया कि हाज से फारिग होकर बालों को छोटा करना या गंजा करना वाजिब है; इससे आप अपना हज मुकम्मल करते हैं, और बालों को छोटा या गंजा करना हरम में वह भी कुर्बानी के दिनों में करना वाजिब है, तो आपका इस बात का ध्यान रखें.

और हज के दरमियान हरम की जमीन पर बालों को छोटा या गंजा करना इबादत है.

चंद मसनून दुआएं जो आपको पता होनी चाहिए। –

पाक साफ होकर बैतुल्लाह का तवाफ करना।

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है, कि पाकीज़ी का मजहब है, और हर वक्त पाक रहना एक मुसलमान की निशानी है; इसी तरह जब बैतुल्लाह का तवाफ किया जाता है, तो उस वक्त तवाफ करने वाले पूरी तरह से पाक साफ और बावजु होने चाहिए.

हदीसों में आया है, नबी करीम सल्लल्लाहो अलैही वसल्लम फरमाते हैं, कि हज नमाज की तरह है, और नमाज पाकीज़ी की हालत में ही पढ़ी जाती है, नापाकी की हालत में नमाज नहीं होती ठीक इसी तरह बैतुल्लाह का तवाफ करते वक्त भी जिस्म का पाक साफ और बावजु होना जरूरी है.

तवाफुल विदा करना।

जब हाजी हज करके फारिग हो जाते हैं, और मक्का को अलविदा कह कर अपने अपने मुल्क के लिए रवाना होने वाले होते हैं; तो उससे पहले एक मर्तबा बैतुल्लाह का तवाफ करते हैं, जिसे हम तवाफुल विदा कहते हैं, और यह वाजिब है.

आज आपने क्या जाना?

दोस्तों आज हमने आपको hajj ke wajibat in hindi और hajj ke wajibat kitne hain मुकम्मल तौर पर तफसील बताने की कोशिश की उम्मीद है ! आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी और आपको आपके सवालों के जवाब मिल गए होंगे.

हज की वाजिबातों का जानना इसलिए भी जरूरी है, क्योंकि इसको ना अदा करने से हज मुकम्मल तो होता लेकिन दम करना वाजिब हो जाता है.

आपसे गुजारिश है ! कि आप इस पोस्ट को अपने व्हाट्सएप, फेसबुक पर शेयर जरूर करें ताकि हर मुसलमान जो हज को जा रहे हैं, उन्हें इन चीजों की जानकारी हो जाए.

अल्लाह हाफिज !!!

Quransays.in

- Advertisement -spot_img

More articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article