Ghusl ki sunnat – ghusl ki sunnat kitni hai.

Ghusl ki sunnat आज हम आपको बताएंगे जिसकी मदद से आपको गुसल करने का ज्यादा सवाब मिलेगा.

शुरुआत में ही बता दे ghusl karne ka sahi tarika हर मुसलमान को पता होना चाहिए; क्योंकि गुसल करने से आदमी का नापाक जिस्म पाक हो जाता है.

आपको बता दें Ghusl ki sunnat के साथ – साथ ghusl ke farz भी हैं, जिनका जानना आपको जरूरी है; क्यूंकि अगर आप इन चीजों को ना करें, तो आप का गुसल नहीं माना जाएगा.

यही एक बहुत बड़ी वजह है, कि हर मुसलमान गुसल के फर्ज और सुन्नतें मालूम होनी चाहिए; लेकिन आज कि इस पोस्ट में हम आपको सिर्फ ghusl ki sunnat in hindi तफसील से बताएंगे. तो चलिए शुरू करते हैं…

Ye bhi padhe…

Ghusl ki sunnat in hindi

Ghusl ki sunnat वह चीज है, जिनको करने से हमें गुसल करने का ज्यादा सवाब हासिल होता है; इसलिए हमें गुसल की सुन्नत को अपनाना चाहिए.

Ghusl ki sunnatein चंद है, जिनके बारे हम आपको तफसील से बताएंगे; ताकि आप गुसल की सुन्नत अपनाकर ज्यादा से ज्यादा सवाब हासिल करें और हमेशा पाक रहें.

Ghusl ki sunnat kitni hai (ghusl ki sunnat)

शरीयत के मुताबिक गुसल में कुल 10 सुन्नते हैं, जो काफी आसान है; बहुत लोगों को यह लगता है कि गुसल करना इस्लाम के मुताबिक बहुत मुश्किल है.

लेकिन आपको हम बता दें गुसल करना काफी आसान है, और इससे आदमी ज्यादा पाक साफ और खुशमिजाज हो जाता है.

Ghusl ki 10 sunnatein in hindi

  • बिस्मिल्लाह पढ़ना।
  • गुसल की नियत करना।
  • दोनों हाथों को गट्टों समेत धोना।
  • शर्मगाह को गुसल करने से पहले धोना।
  • वज़ु करना (गुसल से पहले)।
  • तीन बार बदन के पुरे हिस्स पर पानी बहाना।
  • किबला की तरफ मुंह करना।
  • बदन पर अच्छी तरह पानी मलना।
  • ऐसी जगह नहाना जहां आपको कोई ना देखे।
  • पानी कम या ज्यादा ना इस्तेमाल करना।

तो दोस्तों यह तो थी गुसल की 10 सुन्नतें आइए अब हम इन सुन्नतों को तफ्सील से जानने की कोशिश करते हैं.

Ghusl ki sunnat in hindi (तफ़सील से)

बिस्मिल्लाह पढ़ना। – चाहे कोई भी काम हो हम बात सही और नेक काम की कर रहे हैं; उसे करने से पहले बिस्मिल्लाह पढ़ना जरूरी हैैै, जिससे उस काम में बरकत हो जाती है.

इसलिए आप जब गुसल करने जाएं तो सबसे पहले बिस्मिल्लाह पढ़ लें.

गुसल की नियत करना। – जिस तरह नमाज़ की नियत हम नमाज पढ़ने से पहले करते हैं; ठीक उसी तरह गुसल की भी नियत होती है, जिसे हम गुसल करने से पहले करते हैं.

दोनों हाथों को गट्टों समेत धोना। – हाथों को गट्टों तक धोना सुन्नत है; जैसे हम वज़ु में सबसे पहले हाथों का गट्टों तक धोते हैं, ठीक उसी तरह गुसल में भी हमें अपने हाथों को गट्टों तक धोना है.

शर्मगाह को गुसल करने से पहले धोना। – गुसल के दौरान शर्मगाह को गुसल से पहले ही धोना है; इसमें चाहे नजासत हो या ना हो इसे पहले ही आप साफ कर ले उसके बाद गुसल करें.

वज़ु करना (गुसल से पहले)। – जब बात पाकी की होती है, तो सबसे पहले दिमाग में वजू करना ही आता है; और यह घुसल की सुन्नत भी है, इसलिए आप वजू से पहले वधू जरूर करें वज़ु करने का सही तरीका आपको मालूम होना चाहिए.

Ghusl ki sunnat in hindi (तफ़सील से)

तीन बार बदन के पुरे हिस्स पर पानी बहाना। – गुसल करने के दौरान सबसे पहले हमें तीन बार अपने पूरे बदन पर पानी बहाना होता है; जैसे हम वज़ु में तीन बार पानी बहा कर हर जगह कोो धोते हैं, ठीक उसी तरह गुसल में भी करना है.

किबला की तरफ मुंह करना। – जब आप गुसल करने गुसलखाने में जाएं तो आप अपना रुख के बल्ले से तरफ रखें.

Note – एक बात का ध्यान रहे अगर आप नंगे नहा रहे हैं, तो किबले की और रुख ना करें

बदन पर अच्छी तरह पानी मलना। – आप बदन को अच्छे से साफ करने के लिए उसे मलें – आप अच्छे साबुन का भी इस्तेमाल कर सकते हैं; जिससे आपका बदन ज्यादा अच्छे से साफ हो और आप पाक हो जाएं.

ऐसी जगह नहाना जहां आपको कोई ना देखे। – आप गुसल करने के लिए गुसलखाने का इस्तेमाल करें.

हां अब वह बात अलग है, कि अगर आप मर्द हैं, तो खुले में भी नहा सकते हैं; लेकिन उसके लिए एक शर्त है.

शर्त ये है कि आपका नाफ से लेकर घुटने तक का हिस्सा ढका होना चाहिए और अगर औरत है; तो बाहर नहाना जायज नहीं है, यह मना है.

पानी कम या ज्यादा ना इस्तेमाल करना। – गुशल करने के लिए आप पानी ना ज्यादा बहाएं ना कम बहाएं; आप उतने ही पानी का इस्तेमाल करें जितने में आपका पूरा बदन आराम से धूल जाए.

आज आपने क्या जाना।

दोस्तों यह हिमारी आज की पोस्ट इस पोस्ट में हमने आपको गुसल की सुन्नत आसान लफ्जों में तफसील से बताई है; जिसकी मदद से आप गुसल सही तरीके से करके सवाब हासिल कर पाएंगे.

उम्मीद है, आपको हमारी हर पोस्ट पसंद आई होगी – दोस्तों गुसल की सुन्नते हर मुसलमान को पता होनी चाहिए; इसलिए अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो – तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर जरूर करें.

आज के लिए बस इतना ही मिलते हैं, आपसे अपनी अगली पोस्ट में तब तक के लिए अल्लाह हाफिज !!!

Quransays.in

Leave a Comment