Eid ki namaz ka tarika for female – Aurten eid ki namaz kaise padhe

Must read

Eid ki namaz ka tarika for female हमारी काफी दीनी माएं और बहनें जानना चाहती हैं; ताकि वह भी ईद की इबादत करके ढेरों सवब हासिल कर सकें.

ईद की नमाज़ से जुडे काफी सवालों की वजह से हमारी दीनी बहनें कंफ्यूजन में रहती हैं; की आखिर उन्हें ईद की नमाज पढनी चाहिए या नहीं.

आज की इस पोस्ट में हम आपको नीचे बताइ हुई तमाम चीजों की मालूमात देंगे; ताकी आपको eid ki namaz ka tarika for female से जुडे तमाम सवालों के जवाब मिल सके.

  • Eid ki namaz ka tarika for female.
  • Aurat ki Eid ki namaz ka tarika.
  • Aurat Eid ki namaz kaise padhe.

Eid ki namaz Aurton Ke Liye

रमजान के 30 रोजे अल्लाह को राजी करने और उसकी इबादत के लिए रखते हैं; तो अल्लाह इसके बदले में हमें ईद की शक्ल में तोहफा देता है, और ईद की नमाज ईद के दिन की सबसे बड़ी इबादत होती है.

ईद के दिन अल्लाह मेजबान होता है, और फरमाता है, कि यह दिल तुम्हारे लिए खुशी का है; इसलिए इस दिन तुम खाओ पियो और मेरा शुक्र अदा करो.

इससे यह पता चलता है, कि ईद का दिन कितना बड़ा अहमियत वाला होता है; ईद के दिन ईद की नमाज अदा करना सबसे अफजल इबादत है.

ये भी पढें। – ईद का बयान।

Eid ki namaz ka tarika for female

  • ईद की नमाज 2 रकात की होती है, जिसे एक सलाम के साथ अदा किया जाता है, बता दें ईद की नमाज बा-जमात की जाती है; यानी जैसे जुम्मे के दिन जमात के साथ हम नमाज अदा करते हैं, ठीक उसी तरह ईद की नमाज अदा करते हैं.
  • ईद की नमाज वाजिब होती है, औरतों पर ईद की नमाज वाजिब नहीं होती और ना ही उनके लिए इस नमाज को अदा करना जरूरी है; ईद की नमाज मर्दो पर वाजिब है, औरतों पर ये नमाज़ वाज़िब नहीं.

अब आप में से कई लोगों के मन में सवाल उठ रहा होगा कि अगर यह नमाज मर्दों पर ही वाजिब है; औरतों पर नहीं तो Kya aurat eid ki namaz padh sakti hai या Eid ki namaz ka tarika for female क्या है? आइए उन्हें हम जान लें.

ये भी पढ़ें। – ईद का बयान।

Aurat ki Eid ki namaz ka tarika

जैसा कि हमने आपको बताया ईद की नमाज बा-जमात की जाती है, बिना जमात के ईद की नमाज अदा नहीं की जा सकती और यह सब जानते हैं, कि खवातीन पर जमात के साथ नमाज़ पढ़ना मना है, ऐसे में ईद की नमाज खवातीन पर वाजिब नहीं होती लिहाजा वह ईद की नमाज नहीं पढेंगीं.

हमारे नबी सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने फरमाया औरतों के लिए मस्जिद से ज्यादा घरों में नमाज अदा करना अफज़ल है; और उसमें भी घर में किसी कोने में वह भी पर्दे के साथ.

जिस तरह औरतें जुम्मे के दिन जुमे की नमाज नहीं पड़ती है, उसके बदले घर में ही जोहर की नमाज अदा करती है; ठीक उसी तरह वह ईद की नमाज नहीं पढेंगीं.

ये भी पढ़ें। – जुमे का बयान।

Aurten eid ki namaz kaise padhe

Aurten eid ki namaz kaise padhe तो बता दें औरतें ईद की नमाज नहीं पढ़ सकती क्योंकि ईद की नमाज जमात के साथ अदा की जाती है, और औरतों को जमात कर नमाज पढ़ना मना है; ऐसे में अगर खवातीन चाहें की वह अल्लाह का शुक्र अदा करने के लिए ईद की ईबादत करेंगी तो वह ईद की नमाज की जगह चासत या इराक की नमाज़ पढ कर सकती है.

अल्लाह आपको इन नफिल नमाजों का भी बहुत ज्यादा सवाब अता करेगा आप अपनी नमाज अदा करने के बाद अपनी मां बहनों से गले मिले खुशियां बांटे और घर में बच्चे हो तो उन्हें ईदी दें बच्चों को ईदी का बहुत इंतजार रहता है, वह ईदी पाकर खुश हो जाते हैं.

Kya aurat eid ki namaz padh sakti hai

ईद आते ही यह सवाल खवातीनों के जेहन में आता है, और वह यह जानकारी ढूंढने में लग जाती हैं; आपको बता दें यूट्यूब वगैरह पर अभी से ही aurat ki Eid ki namaz ka tarika बताया जा रहा है, जोकि सरासर गलत है.

जैसा कि हमने आपको बताया कि ईद की नमाज वाजिब है, और जमात के साथ ही अदा की जा सकती है; ऐसे में जब औरतों पर जमात ही जायज नहीं और ना ही ईद की नमाज वाजिब है, तो वह ईद की नमाज कैसे अदा कर सकती हैं.

लिहाजा ईद की नमाज सिर्फ और सिर्फ मर्दों के लिए ही है; औरतें इसके बदले चास्नत, इराक या फिल नमाज अदा कर सकती है; ईद की नमाज वह नहीं पढेंगी.

ये भी पढ़ें – नमाज का बयान।

आज आपने क्या जाना?

तो ये थी हमारी आज की पोस्ट जो कि हमारी मुस्लिम खवातीनों के लिए बेहद ही ज्यादा जरूरी थी आज की पोस्ट में नीचे लिखी तमाम बातों को और आपके सवालों को आसान लफ्जों में तफसील से बताने की कोशिश की है.

  • Eid ki namaz ka tarika for female/ladies.
  • Aurat ki Eid ki namaz ka tarika.
  • Aurten eid ki namaz kaise padhe.
  • Kya aurat eid ki namaz padh sakti hai

हमें उम्मीद है ! कि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी और आपको आपके तमाम सवालों के जवाब मिल गए होंगे; अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इसे आपसे व्हाट्सएप, फेसबुक पर शेयर करें ताकि हर मुसलमान खवातीन को इन चीजों की जानकारी हो सके.

बाकी आपको यह पोस्ट कैसी लगी और आप हमें क्या सलाह देना चाहते हैं; कमेंट में जरूर बताएं? अल्लाह हाफिज, ईद मुबारक !!!

Quransays.in

- Advertisement -spot_img

More articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article