EId ki fazilat – Eid ke din ki fazilat kya hai – ईद के दिन करें ﷺ की ये सुन्नतें

Eid ki fazilat या Eid ke din ki fazilat kya hai? काफी लोगों का सवाल होता है, क्यूंकि लोगों ने 30 दिन तक अल्लाह की इबादत की है और कोई भी इतने दिनों का फल ईद के रूप मे बर्बाद नहीं करना चाहेगा इसलिए लोग जानना चाहते हैं कि eid ki fazilat यानी Eid ke din ke sabse jaruri kam kya hai. 

Eid ki fazilat kya hai? 

Eid ke din ki fazilat या Eid ki fazilat के बारे मे मैं आपको पूरी detail मे बताऊँगा जिसे आप कर सकते हैं और पूरा सवाब हासिल कर सकते हैं.

आपको बता देकि ईद की फज़ीलत मे ऐसे काम होते हैं जो इसमें काफी बड़े माने जाते हैं और जिन्हें करने से अल्लाह हमें ढेर सारा सवाब देता है; इनमें से कुछ काम प्यारे नबी की सुन्नत होती हैं तो इन सुन्नतो को सिर्फ और सिर्फ और ज्यादा से ज्यादा सवाब के लिए किया जाता है. 

नीचे लिखी है eid ki fazilat………. 

Eid ki fazilat ye hai…… 

नोट:- इनमे से ज्यादातर fazilatein प्यारे नबी की sunnatein है तो कुछ साधारण से काम हैं जिन्हें आमतौर पर ज्यादा-से-ज्यादा सवाब हासिल करने के लिए किया जाता है; प्यारे नबी जो काम करते थे ईद के दिन उनमे से ही ईद की फज़ीलत ज्यादातर हैं, क्या ऊंची शान है प्यारे नबी की. सुबहान अल्लाह

ये भी पढ़ें:-

आइये डालिए एक नज़र….. 

  • ईद के दिन अच्छे कपड़े पहनना सुन्नत है अगर नए कपड़े ना हो तो अच्छे और उम्दा कपड़े ही पहन ले. 
  • ईद के दिन गोश्त बनाना काफी अच्छा माना जाता है, आप भी जरूर बनाए भले ही थोड़ा सा बनाए. 
  • ईद के दिन घुसल करना काफी जरूरी है, और सुन्नत भी है. बिना इसके आप पाक नहीं होंगे और आपकी नमाज भी नहीं होगी. 
  • ईद के दिन kurta-payjama जरूर पहने, नमाज पढ़ने का सबसे सही कपड़ा यही है. 
  • अपने कपड़े पर इत्र जरूर लगायें प्यारे नबी भी ऐसा करते थें. 
  • जितने भी कैदी कैद होते रहें प्यारे नबी ईद के दिन सभी को माफ करके रिहा कर देते थे, इसलिए आप भी अपने तकब्बुर में कैद किसी मुस्लमान बन्दे को रिहा कर दें. 
  • आप जिनसे भी नाराज हो अपने दोस्तों, अपने भाई-बहनों से तो उन्हें माफ कर दें और उनसे प्यार मोहब्बत बना ले; प्यारे नबी ने अपनी पूरी जिंदगी में किसी से भी नाराजगी नहीं की. तो हमें भी नहीं करना है. 
  • भले ही किसी ने आप पर कितना भी जुल्म ढाया हो लेकिन आप को ईद की नमाज से पहले उन्हें माफ करके गले लगा लेना है. 
  • दुश्मनों को दोस्त बनाने की ज्यादा से ज्यादा कोशिश करें.
  • याद रखें कि आपके मरने से पहले आपके मन में किसी के लिए भी नफरत नहीं होनी चाहिए इसलिए सबसे मोहब्बत बना करके रहें. 
  • ईद की नमाज को जाते वक्त ईद की नमाज को जाते वक्त की तकबीर जरूर पढ़ें प्यारे नबी भी इसे पढ़ते थे. 
  • जिस रास्ते से ईद की नमाज को जाएं उस रास्ते से वापस ना आए अपना आने का रास्ता बदल ले. 
  • जो शख्स अपने दुश्मनों को और अपने बद पसंदीदा इंसान को माफ कर देता है तो अल्लाह ईद की नमाज को जाने वाले फरिश्तों से कहता है कि जाते-जाते मेरे बंदे को पैग़ाम दे देना कि तेरे अल्लाह ने तुझे माफ़ किया. लेकिन अल्लाह माफ़ उसी को करेगा जो दूसरों को माफ़ करेगा. 
  • सभी रिश्तेदारों और दोस्तों के घर जाएं और उनके साथ खुशियां मनाएं. 
  • गरीबों के घर भी जाएं और उन्हें जकात दे और उनकी मदद करें. उन्हें बे हैसियत वाला ना समझें और उन्हें ऐसा महसूस भी ना होने दें. 
  • गरीबों में खाना और कपड़े बाटें, और जरूर सामान मुहैया कराएं.
  • अड़ोस पड़ोस के यहां जाकर सेवइयां खाएं, और उन्हें अपने घर बुलाकर उन्हें भी खिलायें. 
  • अपने से छोटों को ईदी दें, इससे वो खुश होंगे और आप भी. और ईद तो है ही खुशियों का त्योहार. 
  • ईद के दिन अल्लाह को इस बात का शुक्र अदा कीजिए कि उसने आपको रमजान जैसा महीना दिया और उसका अजर ईद के रूप में दिया.
  • अल्लाह से दुआ मांगे की ” या अल्लाह हमने पूरे रमजान में आप की इबादत कि उसे कबूल कर ले” और हर उस चीज के लिए दुआ करें जो आप अल्लाह से मांगना चाहते हैं.

तो दोस्तों यह ही कुछ ऐसी फजीलतें है जो हमें ईद के दिन करनी ही करनी चाहिए और इनमें से ज्यादातर तो प्यारे नबी की सुन्नतें ही हैं;तो इन्हें तो करना लाजमी ही है, तो आप इन्हें जरूर करें और आपको इन्हें करना ही है अगर आप ज्यादा-से-ज्यादा सवाब हासिल करना चाहते हैं…… 

तो कीजिए वादा की इस बार की ईद प्यारे नबी की सुन्नतों वाली ईद जैसी मनाई जाएगी; जिसमें सिर्फ और सिर्फ मोहब्बत का नाम होगा नफरत, जलन, और नाराजगी का नामोनिशान तक नहीं होगा. और हर तरफ खुशियों का माहौल बना रहेगा.

ये भी पढ़ें:-

उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी आज की जानकारी से भरी यह पोस्ट पसंद आई होगी जिसमें हमने “Eid ki fazilat” जानी; अगर हाँ, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी Eid ki fazilat का पता चल सके. 

और हमारे इस WEBSITE को BOOKMARK कर ले ताकि आप सभी को इस्लाम से related ऐसी ही जानकारी से भरी POST रोज़ाना मिलती रहें….. 

quransays.in 

Leave a Comment