Beta hone ki dua?

Must read

Beta hone ki dua? बहुत ही अजमत वाली दुआ है जिसे हर एक शादी-शुदा मियां-बीवी चाहते हैं, लेकिन आपको बेटी नमस्ते होने की दुआ नहीं करनी है इससे अल्लाह बहुत नाराज होता है; क्योंकि अल्लाह बेटी उसी को देता है जिससे वह बहुत खुश होता है लेकिन आजकल लोग बेबी को भोज समझते हैं जो कि सरासर गलत है. 

ऐसा सोचने वाले को अल्लाह कभी भी बरकत और रहमत नहीं देता, और उसको बदले में अल्लाह की लानत मिलती है; इसका मतलब कि बेटे होने की दुआ आपको तब ही करनी है जब आपके पास बेटा ना हो सिर्फ बेटी ही हो, तब हो सकता है कि आप बेटे की चाह रखते हैं. इसके लिए हम आपको दुआ बताने वाले हैं जो कि बड़ी अज़मत वाली है; और इसमें कुछ गलत भी नहीं है क्योंकि हर एक शादी-शुदा मियां-बीवी का जोड़ा बेटा और बेटी दोनों ही चाहता है

तो चलिए इसे थोड़ा गहराई में देख लेते हैं….

Kya hume bete ki dua mangni chahiye?

जी हां अगर आपके पास बेटा नहीं है और सिर्फ बेटी ही है या बेटा होता भी है तो जिंदा नहीं रहता है तो आप अल्लाह से बेटे की पैदाइश मांग सकते हैं; और इसमें कोई बुराई भी नहीं है, क्योंकि अगर आपको अल्लाह ने बेटा नहीं दिया सिर्फ बेटी ही दी है तो इस beta hone ki dua दुआ को पढ़ने में कोई भी बुराई नहीं है. क्यूंकि अल्लाह ने खुद फरमाया है कि तुझे जो माँगना है तू मांग मैं तुझे वो सब दूँगा जिसका तू हक़दार है. और हम सब जानते हैं कि एक अल्लाह ही तो है जो सब कुछ देता है. 

इंशा अल्लाह, अल्लाह आपकी दुआ को कबूल करेगा और आपको बेटे से नवाज देगा…

ये भी पढ़ें:-

Beta hone ki dua kab padhe?

बेटा होने की दुआ आपको तब पढ़नी चाहिए जब आपके पास बेटा ना हो, और आप बेटा पैदा होने की चाह रखते हैं; तब आप इस दुआ को पढ़कर बेटा होने की दुआ कर सकते हैं… 

लेकिन आपको अपने मन मे ये कभी नहीं लाना है कि अल्लाह मुझे बेटी ना देना; ऐसा सोचने से भी अल्लाह आपसे रूठ जाएगा और आप पर लानत नाजिल कर देगा. 

एक हदीस में आया है कि प्यारे नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि 

” अगर तुम्हें बेटी हुई है तो निराश मत हो बल्कि खुश हो क्योंकि अल्लाह जिसे बेटी देता है उसकी किस्मत बदल देता है; और उस पर अल्लाह की रहमत और बरकत नाजिल होती है, उसकी तरक्की भी होती है और उससे किसी भी चीज का गम और दुख नहीं रहता. 

अल्लाह जिससे खुश होता है, उसे बेटी अपनी रहमत की के रूप मे देता है, और उसके साथ हमेशा अच्छा ही होता है; उसकी बेटी हमेशा उसके लिए फायदेमंद साबित होती है अल्लाह की अदालत में “

Beta paida hone ki dua

ये बात हर एक इंसान जानता है कि ये हमारे हाथ मे नहीं है कि आपको बेटा होना है या बेटी, ये पूरा किस्सा अल्लाह की मर्जी से होता है; और हम इसको टाल नहीं सकते या अपने मन की नहीं कर सकते. 

लेकिन आप अल्लाह से दुआ जरूर कर सकते हैं ताकि वो आपको बेटा दे दे….. 

वैसे तो ऐसी कोई दुआ नहीं है quran मे जिसे पढ़ने से किसी को बेटा मिल जाए, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कोई दुआ नहीं है; हमको दुआ खुद करनी होगी, जिसका तरीका नीचे लिखा हुआ है. 

Beta hone ki dua in hindi ka tarika:- 

  • पांचों वक्त की नमाज पढ़ें और हर फर्ज नमाज के बाद रो रोकर अल्लाह से दुआ मांगे, मिया बीबी दोनों ये काम करे; अल्लाह को बोलें, या अल्लाह मेरी सुन ले और मुझे बेटा दे दे. 
  • रोज जितना हो सके कुरान पढ़ें दोनों मिया बीबी और फिर रो रोकर दुआ मांगे. 
  • गरीब बच्चों की मदद करें और उनका अच्छा करें. लेकिन दिल से; ना कि सिर्फ अल्लाह को दिखाने के लिए की हम अच्छा काम करते हैं, वो जानता है कि उसका कौनसा बंदा कैसा है.
  • खूब रोजा रखें, और रो रोकर अल्लाह से मदद की गुहार लगाएं. 
  • जकात अदा करें. 
  • दिल मे नाउम्मीदी का खयाल ना लाएँ और अच्छा काम करते रहें. 
  • कभी भी दिल मे या मुह में ये ना आने दें कि अल्लाह मुझे बेटी मत देना सिर्फ बेटा देना; अगर आपने ऐसा किया तो आपको गुनाह मिलेगा. 

ये भी पढ़ें:-

तो दोस्तों आपको उपर लिखी बातों पर आपको ध्यान देना है और हमेशा करते रहना है जब तक बच्चा ना हो जाए; आपको कभी नाउम्मीद नहीं होना है, क्यूंकि हो सकता है कि आपको बेटा ना मिले क्यूंकि शायद अल्लाह ने आपके नसीब मे ये नहीं लिखा. और हो सकता है कि आपके लिए दूसरी बड़ी चीज़ें इंतजार कर रहीं हों. 

अल्लाह हर किसी को औलाद या बेटा दे ये जरूरी नहीं और सिर्फ इसी के चक्कर मे अपनी जिंदगी बर्बाद ना कर दें; और दूसरी चीज़ें पर ध्यान लगायें क्यूंकि शायद इसकी ख़ुशी आपके नसीब मे नहीं लेकिन दूसरी खुशियों को बर्बाद ना करें.

उम्मीद है कि आपको हमारा ये पोस्ट पसंद आया होगा और आपको इससे कुछ सीखने को मिला होगा; तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के उन लोगों को share करें जिन्हें औलाद नहीं या बेटे की चाह है. 

और हमारे इस WEBSITE को BOOKMARK कर ले ताकि आप सभी को रोजाना ऐसी ही POST मिलती रहे इस्लाम से जुड़ी…

quransays.in

पिछला लेखKya islam me mohabbat jaiz hai?
अगला लेखNaye sahar me jane ki dua kya hai?
- Advertisement -spot_img

More articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article