4 qul

Must read

अस्स्सलाम अलैकुम !!! नाज़रिन् हम आपका तहे दिल से इस्तकबल करते हैं हमारे ब्लॉग quransays.in पर और 4 qul पर।

दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको 4 qul के बारे में बताएंगे और साथ ही में हम आपको 4 qul की इमेज भी देंगे और 4 qul का translation और english transliteration भी देंगे। 

अगर आपको इस्लाम के सभी मसाएल् (चीज़) को जानना चाहते हैं, जो की हर मुसलमान शख्स को पता होना ही चाहिए, तो आप हमारे इस blog को अपने जानने वालों तक जरूर share करें। 

तो चलिए शुरू करते हैं आज की पोस्ट 4 qul।

4 qul is very precious set of saurahs that every muslim should know

4 qul क्या है। 

दोस्तों 4 qul हर मुसलमान शख्स को पता है और पता होनी भी चाहिए क्योंकि इसकी बहुत ही फ़ज़ीलते हैं। फ़िर भी अगर आपको 4 qul के बारे में पूरी जानकारी नहीं है, तो आज की इस पोस्ट में इंशाअल्लाह आपको सभी जरूरी जानकारी मिल जाएगी। 

4 qul के बारे में जानने के लिए हमारे साथ बने रहे। 

4 qul 4 सूरह को कहते हैं, वो 4 सूरह इस्लाम मे बहुत अफ़ज़ल हैं। charon qul क़ुरान पाक की आखिरी व छोटी सूरह में से है।

चारों कुल यह हैं।

1. सूरह काफ़िरून।
2. सूरह इखलास।
3. सूरह फलक।
4. सूरह नास।

Read More:- कामयाबी की दुआ।

इन चार सूरह को 4 qul क्यों कहा जाता है।

क्यूंकि सभी चार सूरह कुल अलफाज से शुरू होते हैं, कुल का अरबी मतलब कहना होता है, क्यूंकि सभी कुल कुल अलफाज़ से शुरू होते हैं तो इन्हे एक साथ 4 qul कहा जाता है।

1. सूरह काफ़िरून।

पहली कुल सूरह अल काफ़िरून (surah kafirun) है, सूरह काफ़िरून क़ुरान मजीद की छोटी सूरह में से एक है।

सूरह काफ़िरून की बहुत सी फ़ज़िलतें हैं, जो शख्स सूरह काफ़िरून को पढता है, वो शख्स शिर्क करने से बच जाता है।

सूरह काफ़िरून की एक और बड़ी फ़ज़ीलत है की सूरह काफ़िरून पूरे कुरान मजीद के एक चौथाई के बराबर है।

चलिए शुरू करते हैं सूरह काफ़िरून।

4 qul in arabic

بِسْمِ اللهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِيْمِ

قُلْ يَٰٓأَيُّهَا ٱلْكَٰفِرُونَ

لَآ أَعْبُدُ مَا تَعْبُدُونَ

وَلَآ أَنتُمْ عَٰبِدُونَ مَآ أَعْبُدُ

وَلَآ أَنَا۠ عَابِدٌ مَّا عَبَدتُّمْ

وَلَآ أَنتُمْ عَٰبِدُونَ مَآ أَعْبُدُ

لَكُمْ دِينُكُمْ وَلِىَ دِينِ

तो ये थी हमारी सूरह काफिरून अरबी में। 

surah kafirun in hindi

कुल या अय्यूहल काफिरून

ला आ- बुदू मा ता’बुदून

वला अंतुम आ बि दूना मा आबुद

वला अना आबिदुम मा आ बद्दतुम

वला अंतुम आ बि दूना मा आबुद

लकुम दीनुकुम वलिया दीन

surah kafirun hindi translation

कह दो, “ऐ काफिरों

मैं उसकी इबादत नहीं करता जिसकी तुम इबादत किया करते हो।

ना ही तुम इबादत करते हो उसे जिस्की मैं इबादत करता हूं।

और ना मैं इबादत करूंगा उसकी जिसकी तुम इबादत करते हो।

और ना तुम उसकी इबादत करने वाले हो जिसकी मैं इबादत कर रहा हूं।

तुम्हारे लिए तुम्हारा दीन है,और मेरे लिए मेरा दीन है।

surah kafirun in english

qul ya ayyuhal kafirun

la’a budu mata budun

wala antum abidna ma’a bud

wala ana abidum ma’ abattum

wala antum abidna ma’a bud

lakum dinakum wali yadeen

surah kafirun english translation

Say, “O infidels

I do not worship what you worship.

Neither do you worship what I worship.

Nor will I worship that which you worship.

And neither are you going to worship what I am worshiping.

For you is your Deen, and for me is my Deen.

तो ये थी हमारी सूरह काफ़िरून इसे हमने कई तरह से आपको बताया है, और अगर आप surah kafirun के बारे में और जानना चाहते हैं तो surah kafirun in hindi पर जा सकते हैं।

चलिए अब हम दूसरी कुल सूरह इखलास को पढ़ते हैं।

Read More:- सूरह नस्र

2. सूरह इखलास।

सूरह इखलास (surah ikhlas) का मर्तबा बहुत आला है, यह सूरह हर मुसलमान को जबानी याद होती है, बड़े ही नहीं बल्कि बच्चे बच्चे तक को भी यद् होती है।

सूरह इखलास क़ुरान मजीद की सबसे छोटी सूरह में से एक है, जिसमे 4 आयत हैं।

इस सूरह को पढ़ने की बहुत फ़ज़िलतें है, इसे पढ़ने से आप जन्नत के बेहद करीब हो सकते हैं।

अगर आप इस सूरह को दस मरतबा पढ़ेंगे तो, तो अल्लाह सुभान ताला जन्नत में उस के लिए घर बनाएगा।

चलिए शुरू करते हैं सूरह इखलास।

4 qul in hindi translation in easy way

بِسْمِ اللهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِيْمِ

قُلْ هُوَ ٱللَّهُ أَحَدٌ

ٱللَّهُ ٱلصَّمَدُ

لَمْ يَلِدْ وَلَمْ يُولَدْ

وَلَمْ يَكُن لَّهُۥ كُفُوًا أَحَدٌۢ

तो ये थी हमारी सूरह इखलास अरबी में। 

surah ikhlas in hindi

कुल हुवल लाहू अहद

अल्लाहुस समद

लम यलिद वलम यूलद

वलम यकूल लहू कुफुवन अहद

Read more :- वीतिर की नमाज़ कैसे पढ़ें।

surah ikhlas hindi translation

आप कह दीजिये कि अल्लाह एक है

अल्लाह बेनियाज़ है

वो न किसी का बाप है न किसी का बेटा

और न कोई उसके बराबर है

surah al ikhlas in english

kul hoval lahu ahad

allah hus samad

lam yallid walam yulad

walam yakul lahu

kufuvan ahad

surah ikhlas english translation

You say that Allah is one

allah is innocent (बेनियाज़)

He is neither anyone’s father nor anyone’s son

and no one is equal to him

तो ये थी सूरह इखलास, इसे आप रोज़ाना पढ़ा करें इसके बहुत फायदे हैं कुछ तो हमने आपको ऊपर बता अहइ दिए हैं।

तो चलते तीसरी कुल सूरह फलक की तरफ।

Read More:- beautiful duas from hadith in hindi

3. सूरह फलक।

सूरह फलक का मतलब भोर होता है, सूरह फलक क़ुरान ए – पाक की छोटी सूरह में से एक है।

सूरह इखलास क़ुरान मजीद की 113वी सूरह है, इसमें 5 आयत हैं।

सूरह फलक को पढ़ने की बहुत फ़ज़िलतें हैं, जो शख्स इस सूरह को पढता है, उसे अल्लाह काला जादू और बुरी नज़रों से बचाता है।

चलिए शुरू करते हैं सूरह फलक।

4 qul in english translation

بِسْمِ اللهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِيْمِ

قُلْ أَعُوذُ بِرَبِّ ٱلْفَلَقِ

مِن شَرِّ مَا خَلَقَ

وَمِن شَرِّ غَاسِقٍ إِذَا وَقَبَ

وَمِن شَرِّ ٱلنَّفَّٰثَٰتِ فِى ٱلْعُقَدِ

وَمِن شَرِّ حَاسِدٍ إِذَا حَسَدَ

तो ये थी हमारी सूरह फलक अरबी में। 

surah falaq in hindi

कुल आ ऊजू बिरब्बिल फलक

मिन शर्री मा खलक़

वा मिन शर्री गासिकिन इजा वकब

वा मिन शर्रीन नाफ्फासाती फिल उकद

वा मिन शर्री हसिदिन इज़ा हसद

Read more – तरावीह की दुआ

surah falaq in hindi translation

कह दो ऐ बंदों की मैं सुबह को पैदा करने वाले परवरदिगार (रब) की कसम खता हूँ।

तमाम किस्म के मखलूखों के शर से।

और अंधेरे की बुराई से जब वह सुलझ जाए।

और गांठों में धौंकनी की बुराई से।

और जलने वाले की बुराई से जब वह जलन करे।

surah falaq in english

qul auju bi rabbil falaq

min sharril maa khalak

wa min sharrill gaasikeen iza wakab

wa min sharri naffashati fil ukad

wa min sharri hasideen iza hasad

surah falaq in english translation

Say, O men, I swear by the Lord who creates in the morning.

From the body of all kinds of vultures.

And from the evil of darkness when it settles.

And from the evil of the bellows in knots.

And when he is jealous of the evil of the one who jealous.

तो ये थी surah al falaq.

चलिए अब हम चलते हैं हमारी 4 qul सूरह नास की तरफ।

Read More:- वीतिर की नमाज़ कैसे पढ़ें।

4. सूरह नास।

सूरह नास क़ुरान मजीद की आखिरी सूरह है, सूरह नास मक्का में नाज़िल हुई, नास का माना है इंसानियत।

सूरह नास क़ुरान मजीद की 114वी सूरह है, इसमें 6 आयत हैं।

सूरह नास की भी कई फ़ज़िलतें हैं, जो शख्स इस सूरह को पढता है, तो उसके जेहन से बुरे ख़यालात दूर हो जाते हैं, जिसे जिन्नों ने डाला होता है।

चलिए शुरू करते हैं सूरह नास।

4 qul in english transliteration

بِسْمِ اللهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِيْمِ

قُلْ أَعُوذُ بِرَبِّ ٱلنَّاسِ

مَلِكِ ٱلنَّاسِ

إِلَٰهِ ٱلنَّاسِ

مِن شَرِّ ٱلْوَسْوَاسِ ٱلْخَنَّاسِ

ٱلَّذِى يُوَسْوِسُ فِى صُدُورِ ٱلنَّاسِ

مِنَ ٱلْجِنَّةِ وَٱلنَّاسِ

      तो ये थी हमारी सूरह नास अरबी में। 

surah nas in hindi

कुल आउज़ू बी रब्बिन्नास

मलिकिन- नास

इलाहिन- नास

मिन शर्रिल वास्वसिल खन्नास

अल- लजी युवास्विसू फी सुदुरिन्नास

मीनल जिन्नती वन्नास

Read More – दुआ – ए – क़ुनूत

surah nas in hindi translation

आप कह दीजिए की मैं लोगों के पालनहार की पनाह में आता हूं

लोगों के मालिक की (और)

लोगों के माबूद की (पनाह में)

वस्वसा डालने वाले और पीछे हट जाने वाले के शर से

जो लोगों के दिलो में वस्वसा डालता है

चाहे वो इंसानों में से हो या जिन्नातों में से

surah nas in english

qul auzu bi rabbin nas

maalikin nas

ilaaheen nas

min sharrill waswasill khannass

all lazi uwaswisoo fi sudurinnass

minal zinnati wannass

surah nas in english translation

You say that I come under the protection of the Lord of the people

of the owner of the people (and)

of the people (in shelter)

From the evil of the withdraw whisperer

Who whispers [evil] into the heart of mankind

 Whether it is from human beings or among the Jinns.

और ये थी हमारी चौथी कुल सूरह नास, इसे हमने कई तरीकों से पढ़ा।

तो दोस्तों इसके साथ हमारी पोस्ट मुकम्मल होती हैं, आज हमने इसमें 4 qul के बारे में जाना और चारों कुल का तर्जुमा भी देखा, उम्मीद है दोस्तों आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी।

4 qul को हमें रोज़ाना पढ़ना चाहिए, इससे हमे जिंदगी में कामयाबी मिलती है, और सवाब भी मिलता है।

4 qul को सोने से पहले जरूर से पढ़ लिया करें, यह बहुत है छोटी सूरह हैं और याद भी करना आसान है, इसको पढ़ने से हर शख्स रात भर जिन्नों की बुराई से महफूज़ रहता है।

अल्लाह सुभान व-ताला हमे कहने सुनने से ज्यादा अमल करने की तौफ़ीक़ अत फरमाए। आमीन !!!

Read More:- सूरह अत ताकासूर

Conclusion (नतीजा)

तो दोस्तों हमने 4 qul देखा जिसमे हमने कई सारी नई बातें सीखीं। हमने सारे सूरह जाने और उनके hindi translation जाने, english translation और english transliteration भी जाने। हमने जो कुछ यहाँ सीखा है अल्लाह हमें पढ़ने सुनने से ज्यादा अमल करने की तौफ़ीक़ अता फरमाए। आमीन् !!!

अल्लाह हाफ़िज़ !!!

Quransays.in

- Advertisement -spot_img

More articles

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article